🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeश्री साईं बाबा जीश्री साईं बाबा जी की लीलाएंबाबा को खुशालचंद की चिंता – श्री साईं कथा व लीला

बाबा को खुशालचंद की चिंता – श्री साईं कथा व लीला

शिरडी से कुछ दूरी पर रहाता गांव था| वहां खुशालचंद नाम का एक साहूकार रहता था| बाबा इससे भी तात्या जितना प्रेम किया करते थे| वह जाति से मारवाड़ी था| उसके चाचा चंद्रभान पर भी बाबा का बड़ा प्रेम था| उनसे मिलने के लिए बाबा कई बार उनके गांव खुद चले जाते थे|

“बाबा को खुशालचंद की चिंता” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

बाबा कभी-कभी अकेले और कभी अपने भक्तों के साथ बैलगाड़ी में तो कभी तांगे में बैठकर रहाता चले जाते| जैसे ही बाबा गांव की सीमा पर पहुंचते, रहाता ग्रामवासी उनका अभूतपूर्व स्वागत करते और बड़ी धूमधाम से उन्हें गांव के अंदर ले जाते| वहां से खुशालचंद बाबा को घर ले जाते, आसन पर बैठाकर उत्तम भोजन कराते| फिर काफी समय तक वह बाबा से वार्तालाप करते| इस वार्तालाप के दौरान वहां उपस्थित सभी भक्तों को बहुत आनन्द आता| बाद में बाबा सबकी अपना आशीर्वाद देकर शिरडी लौट आते थे|

खुशालचंद भी अक्सर साईं बाबा से मिलने के लिए शिरडी आता था| एक समय जब वह बहुत दिनों तक शिरडी नहीं आया तो बाबा ने उसे बुलाने के लिए हरीसिंह दीक्षित को तांगे के साथ भेजा| जब दीक्षित ने उसे जानकारी दी कि बाबा ने उसे लाने के लिए तांगा देकर भेजा है तो यह सुनते ही उसकी आँखों में आँसू आ गये और वह तुरंत उसके साथ शिरडी आया|

Shri Sai Baba Ji – Buy beautiful handpicked products

Click the button below to view and buy over 20000 exciting ‘SHRI SAI’ products

20000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏