🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeआध्यात्मिक न्यूज़सी.एम.एस. गोमती नगर ऑडिटोरियम में विश्व एकता सत्संग परोपकार में ही अपना भी उपकार है

सी.एम.एस. गोमती नगर ऑडिटोरियम में विश्व एकता सत्संग परोपकार में ही अपना भी उपकार है

सी.एम.एस. गोमती नगर ऑडिटोरियम में विश्व एकता सत्संग परोपकार में ही अपना भी उपकार है

लखनऊ, 18 अगस्त। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर ऑडिटोरियम में आयोजित विश्व एकता सत्संग में बोलते हुए बहाई धर्मानुयायी, प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापिका-निदेशिका डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने कहा कि सबको अपना सुख भुलाकर लोगों के हित में काम करना चाहिए। हम बच्चों को ‘जय जगत’ व ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की शिक्षा देते हैं और यही बच्चे आगे चलकर दुनिया से लड़ाईयां खत्म करायेंगे। उन्होंने बच्चों से कहा कि हमेशा दूसरों के हित में काम करने पर अपना उपकार स्वतः ही हो जायेगा क्योंकि सभी का सामूहिक विकास होगा। इससे पहले, सी.एम.एस. शिक्षकों द्वारा प्रस्तुत सुमधुर भजनों से विश्व एकता सत्संग का शुभारम्भ हुआ, जिन्होंने बहुत ही सुमधुर भजन सुनाकर सम्पूर्ण वातावरण को आध्यात्मिक उल्लास से सराबोर कर दिया।

विश्व एकता सत्संग में आज सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (द्वितीय कैम्पस) के छात्रों ने एक से बढ़कर एक आध्यात्मिक-साँस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर उपस्थित सत्संग प्रेमियों को गद्गद् कर दिया। स्कूल प्रार्थना से कार्यक्रम की शुरूआत करके छात्रों ने ‘वार्तालाप’ कार्यक्रम के माध्यम से अपने बुजुर्गों एवं दादा-दादी के प्रति सम्मान व्यक्त किया। बच्चों ने ‘दादी अम्मा, दादी अम्मा’ तथा ‘मूँछवाले’ गीत पर नृत्य प्रस्तुत किया। प्री-प्राइमरी के छात्रों ने ‘वाका-वाका’ गीत पर सुन्दर नृत्य प्रस्तुत किया। बच्चों ने अपने कैम्पस में हो रही गतिविधियों तथा कार्यों पर भी एक सुन्दर रिपार्ट प्रस्तुत की। ‘सफरनामा’ नृत्य में छात्रों ने सी.एम.एस. के 60 वर्षों के सफर पर प्रकाश डाला। माताओं ने ‘सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम प्रभु’ एवं ‘जिसकी हैं बेटियां’ गीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर अनेक विद्वजनों ने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सत्संग का समापन संयोजिका श्रीमती वंदना गौड़ द्वारा धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

(हरि ओम शर्मा)
मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी
सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ

FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏