Homeआध्यात्मिक न्यूज़कोरोना महामारी के दौर में आधुनिक तकनीकों के सहारे छात्रों की शिक्षा को परिपूर्ण कर रहा है सी.एम.एस.

कोरोना महामारी के दौर में आधुनिक तकनीकों के सहारे छात्रों की शिक्षा को परिपूर्ण कर रहा है सी.एम.एस.

कोरोना महामारी के दौर में आधुनिक तकनीकों के सहारे छात्रों की शिक्षा को परिपूर्ण कर रहा है सी.एम.एस.

लखनऊ, 4 अप्रैल। कोरोना वायरस के खतरों के कारण लाॅकडाउन के इस दौर में भारत में ही नहीं अपितु पूरी विश्व व्यवस्था में सब कुछ एक ठहर सा गया है, तथापि बच्चों की शिक्षा पर बहुत ही प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। ऐसे में सी.एम.एस. शिक्षक आधुनिक तकनीकों के सहारे छात्रों की शिक्षा को लगातार जारी रखे हुए हैं, जिससे छात्रों की पढ़ाई का कम से कम नुकसान हो। सी.एम.एस. शिक्षकों ने गूगल क्लासरूम, गूगल हैंगआउट एवं जूम एप आदि की मदद से छात्रों की पढ़ाई करवा रहे हैं और हर विषय की आॅनलाइन कक्षाएं ले रहे हैं। सी.एम.एस. की यह आॅनलाइन कक्षाएं निर्धारित टाइम-टेबल के अनुसार चल रही हैं, जिससे छात्रों को पहले से ही अपने विषय, लेसन प्लान, समय की जानकारी होती है और वे इन आॅनलाइन कक्षाओं में अधिकाधिक उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। विषय विशेष के साथ ही छात्रों की नृत्य, संगीत व योग कक्षाएं भी बड़े ही सुचारू रूप से आॅनलाइन चल रही हैं। उक्त जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. के सभी कैम्पस की प्रधानाचार्यांए नियमित रूप से इन आॅनलाइन कक्षाओं का प्रबन्धन एवं मार्गदर्शन कर रही है, जिससे शिक्षण प्रक्रिया को प्रभावी बनाया जा सके। इसके लिए, सी.एम.एस. प्रधानाचार्यांए प्रतिदिन वीडियो कान्फ्रेसिंग केे माध्यम से शिक्षण प्रक्रिया को छात्रों के लिए रूचिपूर्ण बनाने, लेसन प्लान तैयार करने एवं छात्रों को ई-लर्निंग हेतु प्रेरित करने के तौर-तरीकों पर विचार-विमर्श कर प्रबन्धन कर रही हैं। सी.एम.एस. प्रधानाचार्याएं आॅनलाइन लेक्चर के दौरान स्वयं भी उपस्थित रहती हैं, जिससे विषय विशेष में कमजोर छात्रों पर विशेष ध्यान दिया जा सके और शिक्षण प्रक्रिया व छात्रों की प्रगति की समीक्षा की जा सके। इस प्रकार, सी.एम.एस. की इन आॅनलाइन कक्षाओं में नर्सरी से लेकर कक्षा-12 तक के लगभग 85 प्रतिशत छात्र अपने घरों में रहकर सुरक्षित तरीके से शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. के डायरेक्टर आॅफ स्ट्रेटजी, श्री रोशन गाँधी ने पहले ही यह अनुमान लगा लिया था कि आने वाले समय में आनलाइन शिक्षा महत्वपूर्ण साबित होगी। इसी उद्देश्य हेतु श्री रोशन गाँधी ने सी.एम.एस. में ई-लर्निंग विभाग की स्थापना की तथापि सी.एम.एस. के सभी 18 कैम्पसों में आईटी विशेषज्ञों को रखा, जो शिक्षकों को आधुनिक तकनीकों के उपयोग हेतु प्रशिक्षित किया और खान अकादमी आदि के माध्यम आॅनलाइन संसाधनों व शैक्षिक सामग्री तक शिक्षकों की पहुंच को सुनिश्चित किया। इसी कड़ी में, जैसे ही सी.एम.एस. ने यह महसूस किया गया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के मद्देनजर स्कूलों को बंद कर दिया जाएगा, आईटी प्रशिक्षण टीम ने सी.एम.एस. के सभी कैम्पस के शिक्षकों को गूगल क्लासरूम के उपयोग का व्यापक प्रशिक्षण प्रदान किया। इसी का परिणाम है कि आज स्कूल बंदी के दौर में सी.एम.एस. की आॅनलाइन कक्षाएं बड़े ही व्यवस्थित एवं सुचारू रूप से चल रही हैं।

श्री शर्मा ने बताया कि 15 दिनों से अधिक समय से स्कूल बंद हैं, परन्तु सी.एम.एस. प्रत्येक छात्र के लिए आनलाइन कक्षाएं सुचारू रूप से चल रही हैं, जिसमें शिक्षक आनलाइन व्याख्यान देते हैं एवं छात्रों की जिज्ञासाओं का समाधान कर रहे हैं। सी.एम.एस. की आईटी टीम भी शिक्षकों की सहायता हेतु लगातार तत्पर है।

(हरि ओम शर्मा)
मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी
सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ

FOLLOW US ON:
Rate This Article: