🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeआध्यात्मिक न्यूज़ग्रहों की समस्या के लिए कैसे करें देवी की उपासना

ग्रहों की समस्या के लिए कैसे करें देवी की उपासना

ग्रहों की समस्या के लिए कैसे करें देवी की उपासना

ज्योतिष में मुख्य रूप से तीन पाप ग्रह हैं- शनि, राहु और केतु। ये तीन ग्रह हमारे जीवन में नेगेटिव प्रभाव पैदा करते हैं। ये ग्रह और इनका प्रभाव कहीं न कहीं हमारे अंदर छुपा हुआ होता है, जो समय पड़ने पर बाहर आ जाता है। इसलिए हमेशा ही इन पाप ग्रहों को नियंत्रित करने का प्रयास करना चाहिए।

देवी की कृपा से कैसे पाप ग्रहों का नाश हो जाता है?

– देवी के अंदर सभी देवी देवताओं की शक्ति समाहित है।

– दुनिया में हर चीज की शक्ति के पीछे देवी की ही शक्ति है।

– ग्रहों नक्षत्रों की शक्ति भी देवी से ही बनी रहती है।

– हर ग्रह की शक्ति को देवी की कृपा से नियंत्रित किया जा सकता है।

 

शनि की समस्याओं के निवारण के लिए किस तरह देवी की उपासना करें?

– मां के काली स्वरूप की उपासना करें।

– मां काली के समक्ष एक बड़ा सा दीपक जलाएं।

– इसके बाद मां को नीले फूल या लौंग अर्पित करें, साथ में एक लोहे का छल्ला भी अर्पित करें।

– पहले मां काली के मंत्र “ॐ क्रीं कालिकायै नमः” का जाप करें।

– इसके बाद शनि के मंत्र “ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः” का जाप करें।

– मां को अर्पित किए हुए लोहे के छल्ले को मध्यमा अंगुली में धारण करें।

– जब तक ये छल्ला आपकी अंगुलियों में रहेगा, शनि की पीड़ा नहीं होगी।

– ये प्रयोग नवरात्रि में किसी भी दिन कर सकते हैं।

– सामान्य रूप से शनिवार को मां काली को लौंग अर्पित करने से शनि की शान्ति होती है।

 

राहु की समस्याओं के निवारण के लिए कैसे देवी की उपासना करें?

– मां दुर्गा के सिंहवाहिनी स्वरूप की उपासना करें।

– मां दुर्गा के सामने गोद में पानी वाला नारियल लेकर बैठें।

– इसके बाद पहले “ॐ दुं दुर्गाय नमः” का जाप करें।

– फिर राहु के मन्त्र “ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः” का जाप करें।

– नारियल को ले जाकर बहते हुए जल में प्रवाहित करें।

– ये प्रयोग नवरात्रि में किसी भी दिन करें।

– हर बुधवार देवी को पान का पत्ता अर्पित करने से राहु की समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

 

केतु की समस्याओं के निवारण के लिए कैसे करें देवी की उपासना?

– केतु की समस्याओं के निवारण के लिए महिषासुर मर्दिनी स्वरूप की उपासना करें।

– मां को शहद अर्पित करें और लाल फूल भी चढ़ाएं।

– एक लाल चन्दन की लकड़ी का टुकड़ा भी अर्पित करें।

– इसके बाद “ॐ कें केतवे नमः” का जाप करें।

– शहद को प्रसाद की तरह ग्रहण करें तथा लाल चंदन के टुकड़े को अपने पास रख लें।

– ये प्रयोग नवरात्रि में किसी भी दिन करें।

– हर बृहस्पतिवार को देवी को लाल चन्दन अर्पित करने से केतु की शांति हो जाती है।

 

अगर नौ ग्रहों की समस्या हो तो कैसे करें देवी की उपासना?

– इसके लिए नित्य प्रातः देवी के सामने घी का दीपक जलाएं।

– इसके बाद उन्हें लाल फूल और लौंग चढ़ाएं।

– फिर एक विशेष मंत्र का 108 बार जाप करें।

– मंत्र होगा –

 

शांतिकर्मणि सर्वत्र तथा दुःस्वप्नदर्शने।

ग्रहपीडासु चोग्रासु महात्म्यम शृणुयान्मम।।(अ० 12 , श्लो० 16)

 

– मन्त्र का जाप लाल चन्दन की माला से करें।

– इस श्लोक का नियमित जाप करने वाले को कभी भी ग्रह बाधा नहीं होती है।

 

तेजस्वनी पटेल, पत्रकार (+91 9340619119)

– तेजस्वनी पटेल, पत्रकार
(+91 9340619119)

 

FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏