🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Home2012August

(1) जीवन के प्रत्येक पल को पूरे उत्साह के साथ जीना चाहिए:

लोक कल्याण की भावना से ओतप्रोत होकर सफल जीवन जीने के लिए प्रत्येक मनुष्य को ईश्वरीय ज्ञान रूपी शक्ति का प्रत्येक पल भरपूर सदुपयोग करना चाहिए। हम जैसा सोचते हैं हम अपने जीवन को वैसा ही बना भी लेते हैं। हमारा अवचेतन मन हमारी सोच या विचार को साकार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वास्तव में हमारा उत्साह हमारी सबसे बड़ी शक्ति है तथा निराशा सबसे बड़ी कमजोरी है। इसलिए हमें जीवन के प्रत्येक पल को पूरे उत्साह के साथ जीना चाहिए। मनुष्य जीवन के महत्व के बारे में किसी ने सही ही कहा है कि – प्रभु कार्य करके पा लो प्रभु का प्यार कहीं लुट न जायें यह खजाना। कल किसने देखा है प्रभु कार्य इसी क्षण आज कर लो। प्रभु कार्य रस जीवन में भर लो। देखो प्रभु कार्य करने यह मौका नहीं आयेगा दुबारा। कहीं समय का पक्षी चुग न जाये दाना। कहीं लुट न जायें सांसों का खजाना। गुजरा हुआ समय फिर वापिस नहीं आता है। समय की गति को कोई रोक नहीं पायेगा। समय के साथ ही नहीं चलना वरन् समय को आगे बढ़कर बढ़ाना है।

हमें अपनी आत्मा का दीया जलाना है!

एक कमरे में अंधेरा था। जब उसमें एक व्यक्ति गया तो उसे यह पता ही नहीं था कि उस कमरे मंे क्या-2 रखा है। उस कमरे में कही कुर्सी रखी है तो कहीं मेज रखी है। तो वह टक्टर खाता हुआ, धक्का खाता हुआ, टो-टोकर चलता रहता है। लेकिन जैसे ही किसी ने उस कमरे में लाइट की स्वीच आॅन की उस व्यक्ति को कमरे में रखी हुई सभी चीजें दिखाई देने लगती है। इस प्रकार बल्ब के रूप में भौतिक दीया जो जलता है उससे हम यह प्रेरणा लेते हैं कि हमारा जो आत्मा का दीया है वो जले ताकि हमें दिखाई दे कि दुनिया है क्या? इसके लिए परमपिता परमात्मा समय-समय पर अपने दिव्य शिक्षकों को इस पृथ्वी पर अपना दिव्य ज्ञान देने के लिए भेजते रहते हैं।

(1) धार्मिक है लेकिन नहीं है नैतिक बहुत बड़ा आश्चर्य है?

धर्म के नाम पर हम रोजाना जो भी घण्टों पूजा-पाठ करते है वे भगवान को याद करने के लिए कम भगवान को भुलाने के ज्यादा होते हैं। धर्म के नाम पर सारे विश्व में एक-दूसरे का खून बहाया जा रहा है। मानव इतिहास में विश्व में धर्म के नाम पर ही सबसे ज्यादा लड़ाइयाँ तथा युद्ध हुए हैं। रामायण में लिखा है परहित सरिस धर्म नही भाई, परपीड़ा नहीं अधमाई। अर्थात दूसरों का भला करने से बड़ा कोई धर्म नहीं है तथा दूसरों का बुरा करने से बड़ा कोई अधर्म नहीं है। पवित्र ग्रन्थों में जो लिखा है उसकी गहराई में जाकर उसे जानना तथा उसके अनुसार अपना कार्य-व्यवसाय करना भगवान की पूजा है। हम प्रभु की इच्छा तथा आज्ञा के अनुसार चलनेे की जरा भी कोशिश नहीं करते हैं बस भगवान की आरती उतारते हैं। एक गीत की प्रेरणादायी पंक्तियां हैं – धीरे-धीरे मोड़ तू इस मन को इस मन को। जप-तप, तीर्थ, गंगा स्नान सब होते बेकार जब तक मन में भरे रहते विकार। जीत लिया मन फिर ईश्वर नहीं दूर, जान-बुझ कर इंसा क्यों मजबूर। निरन्तर अभ्यास से कुछ भी नहीं है असम्भव।

एक समय की बात है| प्रदीप खन्ना नाम के सज्जन दमे के मरीज़ थे| उन्हें अक्सर अपनी सांस रुकने पर कृतिम ऑक्सीजन–प्रणाली का सहारा लेना पड़ता था|

1. प्रभु के इस विश्वस्त सेवक का नाम है- दुःख:-

प्रभु जब किसी को अपना मानते हैं, उसे गहराइयों से प्यार करते हैं तो उसे अपना सबसे भरोसेमंद सेवक प्रदान करते हैं और उसे कहते हैं कि तुम हमेशा मेरे प्रिय के साथ रहो, उसका दामन कभी न छोड़ो। कहीं ऐसा न हो कि हमारा प्रिय भक्त अकेला रहकर संसार की चमक-दमक से भ्रमित हो जाए, ओछे आकर्षण की भूलभुलैयों में भटक जाए अथवा फिर सुख-भोगों की कँटीली झाड़ियों में अटक जाए। प्रभु के इस विश्वस्त सेवक का नाम है- दुःख। सचमुच वह ईश्वर के भक्त के साथ छाया की तरह लगा रहता है।’’

बचपन से, उनके माता-पिता ने देखा कि अंबिका की एक अनूठी आध्यात्मिक गुणवत्ता है। एक मौके पर जब एक लड़का एक शाम मंदिर में जा रहा था, तो वह एक आध्यात्मिक अनुग्रह में विसर्जित हो गया और भगवान के दर्शन के साथ उन्होंने पवित्र गरुड़ विमान पर यात्रा की।

एक बार की बात है| गढ़वाल में वृक्षों की सहायता के लिए पर्वत पुत्रियों एवं हिमालय के पुत्रों ने वृक्षों से चिपककर उनकी रक्षा का व्यापक आंदोलन किया था|

शिक्षा के लिए समर्पित लखनऊ विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र विभाग के पूर्व हेड डाॅ. जगमोहन सिंह वर्मा (72) की देह अब मेडिकल स्टूडंेट्स के काम आएगी। प्रो. जगमोहन सिंह का निधन 30 जनवरी 2017 को सुबह हो गया। पत्नी श्रीमती कुसुम लता सिंह ने बताया कि डाॅ. जगमोहन सिंह ने 31 अगस्त 2016 को देहदान के लिए पंजीकरण कराया था। उनकी आखिरी इच्छा थी कि जो शरीर जिंदगी भर घर परिवार और बच्चों को शिक्षित करने के काम आया, वो प्राण त्यागने के बाद मेडिकल छात्रों के काम आ सके, ताकि वे कुछ नया सीख सकें। डाॅ. जगमोहन सिंह के इस मानवीय जज्बे को लाखों सलाम। हमारा विचार है कि जीते जी रक्त दान। मरणोपरान्त नेत्र दान तथा देह दान का हमारा संकल्प होना चाहिए। किसी के काम जो आये उसे इंसान कहते हैं, पराया दर्द अपनाये उसे इंसान कहते हैं।

मई 1976 के दिन वह सिरोही जा रहे थे, रास्ते में, पिंडवारा, सिरोही के निकट, उन्होंने देखा कि एक यात्री बस से टकरा गया है, दुर्घटना बहुत गंभीर थी।

(1) जीवन-मृत्यु के पीछे परमपिता परमात्मा का महान उद्देश्य छिपा है:

इस सत्य को जानना चाहिए कि शरीर से अलग होने पर भी आत्मा तब तक प्रगति करती जायेगी जब तक वह परमात्मा से एक ऐसी अवस्था में मिलन को प्राप्त नहीं कर लेती जिसे सदियों की क्रान्तियाँ और दुनिया के परिवर्तन भी बदल नहीं सकते। यह तब तक अमर रहेगी जब तक प्रभु का साम्राज्य, उसकी सार्वभौमिकता और उसकी शक्ति है। यह प्रभु के चिह्नों और गुणों को प्रकट और उसकी प्रेममयी कृपा और आशीषों का संवहन करेगी। बहाई धर्म के संस्थापक बहाउल्लाह कहते हंै कि हमें यह जानना चाहिए कि प्रत्येक श्रवणेंद्रीय, अगर सदैव पवित्र और निर्दोष बनी रही हो तो अवश्य ही प्रत्येक दिशा से उच्चरित होने वाले इन पवित्र शब्दों को हर समय सुनेगी। सत्य ही, हम ईश्वर के हैं और उसके पास ही वापस हो जायेंगे। मनुष्य की शारीरिक मृत्यु के रहस्यों और उसकी असली वतन अर्थात दिव्य लोक की अनन्त यात्रा को प्रकट नहीं किया गया है। माता के गर्भ में बच्चे के शरीर में परमात्मा के अंश के रूप में आत्मा प्रवेश करती है। जिसे लोग मृत्यु कहते हैं, वह देह का अन्त है। शरीर मिट्टी से बना है वह मृत्यु के पश्चात मिट्टी में मिल जाता है। परमात्मा से उनके अंश के रूप में आत्मा संसार में मानव शरीर में आयी थी मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर से निकलकर अपने असली वतन (दिव्य लोक) वापिस लौट जाती है। मृत्यु संसार से अपने ‘असली वतन’ जाने की वापिसी यात्रा है!

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏