🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

गुरमुख और मनमुख – साखी श्री गुरु अर्जन देव जी

एक दिन कुला, भुला और भागीरथ तीनों ही मिलकर गुरु अर्जन देव जी के पास आए| उन्होंने आकर प्रार्थना की कि हमें मौत से बहुत डर लगता है| आप हमें जन्म मरण के दुख से बचाए|  

“गुरमुख और मनमुख” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

गुरु जी कहने लगे, आप गुरमुख बनकर मनमुखो वाले कर्म करने छोड़ दें| उन्होंने कहा महाराज! हमें यह समझाए कि गुरमुख और मनमुख में क्या अन्तर होता है| हमें इनके लक्षणों से अवगत कराए|

गुरमुख के लक्षण-

1गुरु के वचनों को याद रखना 2अपने उपर नेकी करने वालो की नेकी को याद रखना 3सबकी भलाई सोचना और चाहना 4किसी के काम में विघन नहीं डालना 5खोटे कर्मों का त्याग करना 6नेक कर्मों को ग्रहण करना 7गुरु के उपदेश को ग्रहण करके अपने आत्म स्वरुप को जानने वाला और अनेक में एक को देखने वाला गुरमुख होता है|

मनमुख के लक्षण-

1सबसे ईर्ष्या करनी 2किसी का भला होता देख दुखी होना 3अपनी इच्छा से काम करने 4कभी किसी का भला न सोचना 5जो नेकी करे उसकी बुराई करनी 6सबके बुरे में अपना भला समझना 7कथा कीर्तन ध्यान न लेना 8गुरु उपदेश को ध्यान से न सुनना 9पुण्य और स्नान से परहेज करना 10उपजीविका के लिए झूठ बोलना|

गुरु जी के यह वचन सुनकर तीनों को संतुष्टि हुई| उन्होंने गुरमुखता के मार्ग पर प्रण कर लिया| फिर वह गुरु जी को माथा टेक कर अपने काम काज में लग गए|

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏