🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु राम दास जीश्री गुरु राम दास जी - साखियाँगुरु के चक्क व गुरु के महल – साखी श्री गुरु राम दास जी

गुरु के चक्क व गुरु के महल – साखी श्री गुरु राम दास जी

गुरु के चक्क व गुरु के महल

एक दिन श्री गुरु अमरदास जी ने श्री (गुरु) रामदास जी को अपने पास बिठाया और कहने लगे – हे सुपुत्र! अब आप रामदास परिवार वाले हो गए हो|

“गुरु के चक्क व गुरु के महल – साखी श्री गुरु राम दास जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

हम यही चाहते है कि आप अपनी जगीर में मकान तैयार करके वहां निवास करो| गुरु जी ने पांच बुद्धिमान सिक्खों तथा बुड्ढा जी को आपके साथ जाने के लिए तैयार कर दिया| आप ने उन्हें समझाया कि रामतीर्थ को जाते हुए जहां संवत १५५८ श्री गुरु नानक देव जी ने वृक्षों के नीचे दोपहर काटी थी| वहां बैठकर उन्होंने वचन भी किया था कि भोग मोक्ष का प्रवाह चलेगा| आप वहीं आस-पास खुल्ला स्थान देख लेना| खुल्ला स्थान देखकर गांव की नींव रखकर मकान तैयार करा देना|

उसकी उत्तर दिशा की तरफ सरोवर भी खुदवाना| इससे हर जीव-जन्तु को पीने के लिए पानी मिलेगा| बाबा बुड्ढा जी तथा साथी मिलकर श्री (गुरु) रामदास जी के साथ झवाल आकर जागीर के मुखी को श्री गुरु अमरदास जी की आज्ञा बताई| साथ ही साथ गांव की नीव रखने को बताया| इस प्रकार गुरु साहिब का ध्यान करते हुए अरदास की तथा गांव की नींव रख दी| उस गांव का नाम गुरु का चक रखा| गुरु जी ने अपने निवास के लिए मकान बनवाए थे वह अब गुरु के महल करके प्रसिद्ध हुए|

 

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏