🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु राम दास जीश्री गुरु राम दास जी - साखियाँभाई हिन्दाल को वरदान – साखी श्री गुरु राम दास जी

भाई हिन्दाल को वरदान – साखी श्री गुरु राम दास जी

भाई हिन्दाल गुरु घर में बड़ी श्रधा के साथ आता मांडने की सेवा करता था| अचानक ही गुरूजी लंगर में आए| उस समय भाई हिन्दाल जी आटा मांडने की सेवा कर रहें थे|

भाई हिन्दाल को वरदान सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

उन्होंने जैसे ही गुरु रामदास जी को देखा तो शीघ्र ही उठकर आटे से भरे हुए हाथो को अपनी पीठ के पीछे कर दिया| ऐसा करते हुआ उन्होंने अपना शीश गुरु के चरणों पर रख दिया| गुरु जी उसके माथा टेकने के इस रूप को देखकर बहुत ही प्रसन्न हुए और वरदान निमित एक अंगोछा दिया| जब भाई ने अंगोछा लेकर अपने सिर पर रखा तो उसको तीनों लोकों की सोझी प्राप्त हो गई और वह रिद्धीयों-सिद्धियो को हासिल कर गया|

उसकी प्रेमा भक्ति पर खुश होकर गुरूजी ने वचन किया कि अब तुम घर जाकर नाम जपना और औरों को जपा कर सिखी मार्ग को और आगे बढ़ाना| गुरु जी का वचन मानकर भाई हिन्दाल अपने गाँव जंडियाला चला गया| स्वंय नाम जपता और औरों को कराता हुआ परमगति को प्राप्त हो गया| इस प्रकार गुरु के दिये हुए वरदान के कारण उस इलाके के लोग भाई हिन्दाल को गुरु मानकर पूजने लगे| ऐसा केवल गुरु के वरदान के कारण ही संभव हो पाया|

 

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏