🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

सिक्खों को उपदेश – साखी श्री गुरु अमर दास जी

सिक्खों को उपदेश

एक दिन डल्ले गांव के सिक्ख एकत्रित होकर गुरु जी के पास आ गए| उन्हें पता चला की गुरु जी वापिस गोइंदवाल जाने को तैयार है वे इकट्ठे होकर दर्शन के लिए आ गए|

सिक्खों को उपदेश सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

गुरु जी ने सबको समझाया – भाई! आप गुरुपर्व, अमावस्था, संक्रान्ति, दीपावली, वैसाखी और दशहरा आदि शुभ दिनों को इकट्ठे हों| मिलकर कीर्तन किया करो| उत्साह व श्रद्धा से कढाह प्रसाद करके गुरु निमित बांट दिया करो| निष्काम भाव से सबकी सेवा करो| अगर कोई वस्त्रहीन नजर आए तो उन्हे वस्त्र दो| भूखे को रोटी दो| अगर किसी सिक्ख का कोई काम अटक जाए तो मिलकर इकट्ठे होकर काम संवार दिया करो| आपको देखकर आपके बच्चों में अच्छे संस्कार आएंगे| वे भी इस शुभ रीति को धारण करके अपना जीवन संवार लेंगे|

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏