🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु नानक देव जीश्री गुरु नानक देव जी - साखियाँखेती का नष्ट होना व गुरु जी का वैराग्य धारण करना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

खेती का नष्ट होना व गुरु जी का वैराग्य धारण करना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

खेती का नष्ट होना व गुरु जी का वैराग्य धारण करना

श्री गुरु नानक देव जी खेत की रखवाली करने खेत में जाते| परन्तु उनकी सारी खेती पशुओं ने चर ली| क्योंकि गुरु जी पशुओं को बाहर न निकालते|

“खेती का नष्ट होना व गुरु जी का वैराग्य धारण करना – साखी श्री गुरु नानक देव जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

महिता कालू जी यह देखकर क्रोधित हो गए|

गुरु जी काम को त्याग कर गांव से दूर एक वृक्ष के नीचे अकेले बैठे रहते| उन्होंने खाना-पीना त्याग दिया व वैराग्य धारण कर लिया|

श्री गुरु नानक देव जी – जीवन परिचय

 

श्री गुरु नानक देव जी – ज्योति ज्योत समाना

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏