🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
HomePosts Tagged "चूर्ण और वटी"

नुस्खा – भुना हुआ सफेद जीरा 100 ग्राम, सोंठ पिसी हुई 50 ग्राम, सेंधा नमक 150 ग्राम, काला नमक 50 ग्राम, कालीमिर्च 50 ग्राम, नीबू का सत 50 ग्राम और पीपरमेंट 2 ग्राम – सभी चीजों को कूट-पीसकर कपड़छन कर लें| फिर इसे शीशी में भरकर रख लें|

नुस्खा – देवदारु, अजमोद, बायबिड़ंग, सेंधा नमक, पीपरामूल, पीपल, सौंफ एवं कालीमिर्च 20-20 ग्राम तथा बड़ी हरड़, सोंठ और बिधारा 100-100 ग्राम – सबको कूट-पीसकर महीन चूर्ण बनाकर शीशी में रख लें|

नुस्खा – हींग, कालीमिर्च, अजवायन, छोटी हरड़, शुद्ध सज्जीखार तथा सेंधा नमक – सभी चीजें बराबर की मात्रा में लेकर कूट-पीस लें| फिर इसे तीन बार कपड़े से छानें| अब शीशी में बंद करके रख लें|

नुस्खा – सोंठ, कालीमिर्च, पीपल, अजवायन, सेंधा नमक, काला तथा सादा जीरा 10-10 ग्राम और हींग 2 ग्राम – सभी चीजों को अच्छी तरह कूट-पीसकर कपड़छन करके शीशी में भर लें|

नुस्खा – पीपल, आंवला, हर्र, बहेड़ा और सेंधा नमक – सभी चीजें बराबर की मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण बना लें| फिर इसे शीशी में भरकर डॉक लगा दें ताकि सीलन न जाने पाए|

नुस्खा – ब्राह्मी, आंवला, हर्र, बहेड़ा और मुण्डी – सबको बराबर की मात्रा में कूट-पीसकर चूर्ण बना लें| फिर इसमें थोड़ी-सी कच्ची खांड़ मिला दें|

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏