Homeमंत्र संग्रहस्वर्णाकर्षण भैरव मन्त्र व विधि

स्वर्णाकर्षण भैरव मन्त्र व विधि

स्वर्णाकर्षण भैरव मन्त्र व विधि

स्वर्णाकर्षण भैरव मन्त्र व विधि इस प्रकार है|

ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय ह्रां ह्रीं ह्रूं|
अजामलबद्धाय लोकेश्वराय स्वर्णाकर्षण भैरव|
मम दारिद्र्य विद्वेषणाय महाभैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं||

स्वर्णाकर्षण भैरव मन्त्र की विधि इस प्रकार है|

इस मन्त्र का सवा लाख जप विधि सहित करने से व्यापार में लाभ होता है| तथा प्रत्येक कार्य सफल होता है|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏