🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeमंत्र संग्रहधर्मराज का मन्त्र व विधि

धर्मराज का मन्त्र व विधि

धर्मराज का मन्त्र व विधि

धर्मराज का मन्त्र व विधि इस प्रकार है|

ॐ क्रों ह्रीं आं वैं वै वस्वताय|
धर्मराजाय भक्तानुग्रह कृते नमः||

धर्मराज का मन्त्र की विधि इस प्रकार है|

जो साधक इस मन्त्र का एक लाख जप कर लेता है| उसे मृत्यु के बाद नरक में नहीं जाना पड़ता है|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏