🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

अध्याय 134

महाभारत संस्कृत - शांतिपर्व

1 [भ] अत्र गाथा बरह्म गीताः कीर्तयन्ति पुराविदः
येन मार्गेण राजानः कॊशं संजनयन्ति च

2 न धनं यज्ञशीलानां हार्यं देव सवम एव तत
दस्यूनां निष्क्रियाणां च कषत्रियॊ हर्तुम अर्हति

3 इमाः परजाः कषत्रियाणां रक्ष्याश चाद्याश च भारत
धनं हि कषत्रियस्येह दवितीयस्य न विद्यते

4 तद अस्य सयाद बलार्थं वा धनं यज्ञार्थम एव वा
अभॊग्या हय ओषधीश छित्त्वा भॊग्या एव पचन्त्य उत

5 यॊ वै न देवान न पितॄन न मर्त्यान हविषार्चति
आनन्तिकां तां धनिताम आहुर वेद विदॊ जनाः

6 हरेत तद दरविणं राजन धार्मिकः पृथिवीपतिः
न हि तत परीणयेल लॊकान न कॊशं तद विधं नृपः

7 असाधुभ्यॊ निरादाय साधुभ्यॊ यः परयच्छति
आत्मानं संक्रमं कृत्वा मन्ये धर्मविद एव सः

8 औद्भिज्जा जन्तवः के चिद युक्तवाचॊ यथातथा
अनिष्टतः संभवन्ति तथा यज्ञः परतायते

9 यथैव दंश मशकं यथा चाण्ड पिपीलिकम
सैव वृत्तिर अयज्ञेषु तथा धर्मॊ विधीयते

10 यथा हय अकस्माद भवति भूमौ पांसुतृणॊलपम
तथैवेह भवेद धर्मः सूक्ष्मः सूक्ष्मतरॊ ऽपि च

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏