Homeश्री साईं बाबा जीश्री साईं बाबा जी की लीलाएंतात्या और म्हालसापति को बाबा का सान्निध्य – श्री साईं कथा व लीला

तात्या और म्हालसापति को बाबा का सान्निध्य – श्री साईं कथा व लीला

तात्या कोते पाटिल और खडोबा मंदिर के पुजारी म्हालसापति दोनों ही साईं बाबा के परम भक्त थे और साईं बाबा भी दोनों से बहुत स्नेह किया करते थे| ये दोनों रात को बाबा के साथ मस्जिद में ही सोया करते थे| इस लोगों का सोने का ढंग भी बड़ा अजीब था| ये तीनों सिरों को पूर्व, पश्चिम और उत्तर दिशा की ओर करते थे और तीनों के पैर बीच में आपस में एक जगह मिले हुए होते थे|

“तात्या और म्हालसापति को बाबा का सान्निध्य” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

फिर इस तरह लेटे-लेटे तीनों देर रात तक बातचीत और चर्चा करते रहते थे| यदि इस बीच में किसी को नींद आने लगती तो दूसरा उसे जगा देता था| जब तात्या खर्रांटे लेने लगता तो बाबा उसे उठकर हिलाते| कभी-कभी म्हालसापति और बाबा मिलकर तात्या को अपनी तरफ खींचकर पैरों को धकेलकर पीठ थपथपा दिया करते थे| कभी उसके हाथ-पैर दबाते|

यह सिलसिला चौदह साल तक चला – जब तात्या और म्हालसापति दोनों बाबा के साथ मस्जिद में सोया करते थे| लेकिन जब तात्या के पिता की मृत्यु हो गयी तब घर की जिम्मेदारी निभाने के लिए घर में रहना और सोना जरूरी हो गया|

Shri Sai Baba Ji – Buy beautiful handpicked products

Click the button below to view and buy over 20000 exciting ‘SHRI SAI’ products

20000+ Products

 

बाबा के
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏