🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeश्री साईं बाबा जीश्री साईं बाबा जी की लीलाएंमेरा पेड़ा मुझे दो – श्री साईं कथा व लीला

मेरा पेड़ा मुझे दो – श्री साईं कथा व लीला

यह घटना दिसम्बर, 1915 की है| गोविन्द बालाराम मानकर जो बांद्रा में रहते थे| साईं बाबा की भक्ति के दीवाने थे| अपने पिता की मृत्यु के पश्चात् मानकर ने उनकी अंत्येष्टि क्रिया शिरडी में करने का अपने मन में विचार किया|

“मेरा पेड़ा मुझे दो” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

शिरडी जाने से पूर्व जब श्रीमती तर्खड से मिलने गये तो श्रीमती तर्खड के मन में विचार आया कि बाबा के लिए कुछ और भेंट भेजनी चाहिए| लेकिन क्या दें ? घर में ढूंढने पर उस समय केवल एक मावे का पेड़ा प्रसाद के रूप में बचा हुआ था| उन्होंने वह पेड़ा मानकर को देते हुए कहा कि आप यह पेड़ा बाबा को मेरी तरफ से भेंट दे देना| उन्हें पूर्ण विश्वास था कि बाबा पेड़ा अवश्य स्वीकार कर लेंगे| क्योंकि वह बाबा की भक्ति पूरी निष्ठा से करती थीं|

शिरडी पहुंचकर मानकर जब बाबा के दर्शनों के लिए मस्जिद गया, तो पेड़ा ले जाना भूल गया| लेकिन बाबा ने उसे कुछ नहीं कहा| मानकर जब पुन: शाम को बाबा के दर्शन करने के लिए गया, तो बाबा ने उससे पूछा – “तुम मेरे लिए कुछ लाए हो क्या ?” तब मानकर ने कहा, मैं तो कुछ भी नहीं लाया| जब बाबा ने दुबारा पूछा, तब भी मानकर ने वही उत्तर दिया|

इस बार बाबा ने उससे पूछा कि क्या माँ (श्रीमती तर्खड) में तुम्हें मेरे लिए मिठाई नहीं दी थी ? यह सुनते ही मानकर को श्रीमती तर्खड द्वारा बाबा के लिए दिया गया पेड़ा स्मरण हो आया| वह बाबा से क्षमा मांगकर, दौड़ते हुए अपने ठहरने वाली जगह पर गया और वहां से पेड़ा लाकर बाबा को अर्पण कर दिया| बाबा ने भी वह पेड़ा तुरंत खा लिया|

Shri Sai Baba Ji – Buy beautiful handpicked products

Click the button below to view and buy over 20000 exciting ‘SHRI SAI’ products

20000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏