🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeआध्यात्मिक न्यूज़समस्त शक्ति के केंद्र होते है शरीर के साथ चक्र

समस्त शक्ति के केंद्र होते है शरीर के साथ चक्र

समस्त शक्ति के केंद्र होते है शरीर के साथ चक्र

शरीर में मूल रूप से 7 चक्र होते हैं। इन्हें सृष्टि की समस्त शक्तियों का केंद्र माना जाता है।आइए जानते हैं इन चक्रों के बारे में।

मूलाधार चक्र

– यह चक्र रीढ़ की हड्डी के सबसे निचले हिस्से के आसपास होता है

– इस चक्र को कुलकुण्डलिनी का मुख्य स्थान कहा जाता है, इसका एक और नाम भौम मंडल भी है

– यह चक्र चौकोर तथा उगते हुये सूर्य के समान स्वर्ण वर्ण का है

– भौतिक रूप से सुगंध और आरोग्य इसी चक्र से नियंत्रित होते हैं

– आध्यात्मिक रूप से धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का नियंत्रण करता है

– इसका बीजाक्षर है – “लं”

– व्यक्ति के अन्दर अत्यधिक भोग की इच्छा और आध्यात्मिक इच्छा इसी चक्र से आती है

 

स्वाधिष्ठान चक्र

– जनन अंग के ठीक पीछे रीढ़ की हड्डी पर स्थित होता है

– इस चक्र का स्वरुप अर्ध-चन्द्राकार है, यह जल तत्त्व का चक्र है

– इस चक्र से निम्न भावनाएँ नियंत्रित होती हैं – अवहेलना,सामान्य बुद्धि का अभाव, आग्रह, अविश्वास, सर्वनाश और क्रूरता

– यह चक्र छह पंखुड़ियों का है

– इसी चक्र से व्यक्ति के अन्दर काम भाव और उन्नत भाव जाग्रत होता है

– इस चक्र का बीज मंत्र है – “वं”

– इस चक्र को तामसिक चक्र माना जाता है

 

मणिपुर चक्र

– यह चक्र नाभि के ठीक पीछे रीढ़ की हड्डी पर स्थित होता है

– इस चक्र की आकृति त्रिकोण है, और रंग रक्त के समान लाल है

– यह चक्र ऊर्जा का सबसे बड़ा केंद्र है , यहीं से सारे शरीर में ऊर्जा का संचरण होता है

– यह अग्नि तत्त्व को नियंत्रित करता है और राजसिक गुण से संपन्न है

– यह चक्र १० पंखुड़ियों का है

– इस चक्र से निम्न वृत्तियाँ नियंत्रित होती हैं – लज्जा, दुष्ट भाव, ईर्ष्या, सुषुप्ति, विषाद, कषाय, तृष्णा, मोह, घृणा, भय

– मन या शरीर पर पड़ने वाला प्रभाव सीधा मणिपुर चक्र पर पड़ता है

– इस चक्र का बीज मंत्र है- “रं”

 

अनाहत चक्र

– ह्रदय के बीचों बीच रीढ़ की हड्डी पर स्थित चक्र को अनाहत चक्र कहा जाता है

– आध्यात्मिक दृष्टि से यहीं से साधक के सतोगुण की शुरुआत होती है, इसी चक्र से व्यक्ति की भावनाएँ और अनुभूतियों की शुरुआत होती है

– इस चक्र को सौर मंडल भी कहा जाता है, इसका वर्ण हल्का हरा है

– इसका आकार षठकोण का है

– इस चक्र में १२ पंखुड़ियां हैं

– इस चक्र से निम्न प्रकार की वृत्तियाँ नियंत्रित होती हैं – आशा, चिंता, चेष्टा, ममता, दंभ, विवेक, विकलता, अहंकार, लोलता, कपटता, वितर्क, अनुताप

– व्यक्ति की भावनाएँ और साधना की आंतरिक अनुभूतियाँ इस चक्र से सम्बन्ध रखती हैं

– मानसिक अवसाद की दशा में इस चक्र पर गुरु ध्यान और प्राणायाम करना अदभुत परिणाम देता है

– इस चक्र का बीज मंत्र है – “यं”

 

विशुद्ध चक्र

– कंठ के ठीक पीछे स्थित चक्र है – विशुद्ध चक्र

– यह चक्र और भी उच्चतम आध्यात्मिक अनुभूतियाँ देता है, सारी की सारी सिद्धियाँ इसी चक्र में पायी जाती हैं

– यह चक्र बहुरंगा है और इसका कोई एक ख़ास स्वरुप नही है

– यह चक्र आकाश तत्त्व और आठों सिद्धियों से सम्बन्ध रखता है

– इस चक्र की १६ पंखुड़ियां हैं

– कुंडली शक्ति का जागरण होने से जो ध्वनि आती है वह इसी चक्र से आती है

– इसका बीज मंत्र है – “हं”

– इस चक्र से निम्न वृत्तियाँ नियंत्रित होती हैं – भौतिक ज्ञान, कल्याण, महान कार्य, ईश्वर में समर्पण, विष और अमृत

– इस चक्र के गड़बड़ होने से वैज्ञानिक रूप से थाईराइड जैसी समस्याएँ और वाणी की विकृति पैदा होती है

– संगीत के सातों सुर इसी चक्र का खेल हैं

 

आज्ञा चक्र

– दोनों भौहों के बीच स्थित चक्र को आज्ञा चक्र कहा जाता है

– यह दो पंखुड़ियों वाला है, एक पंखुड़ी काले रंग की और दूसरी पंखुड़ी सफ़ेद रंग की है

– सफ़ेद पंखुड़ी ईश्वर की ओर जाने का प्रतीक है, और काली पंखुड़ियों का अर्थ संसारिकता की ओर जाने का है

– इस चक्र के दो अक्षर और दो बीज मंत्र हैं – ह और क्ष

– इस चक्र का कोई ध्यान मंत्र नहीं है क्योंकि यह पांच तत्वों और मन से ऊपर होता है

– इस चक्र पर मंत्र का आघात करने से शरीर के सारे चक्र नियंत्रित होते हैं

– इसी चक्र पर इडा, पिंगला और सुषुम्ना आकार खुल जाती हैं और मन मुक्त अवस्था में पंहुँच जाता है

 

सहस्त्रार चक्र

– मष्तिष्क के सबसे उपरी हिस्से पर जो चक्र स्थित होता है, उसे सहस्त्रार कहा जाता है

– यह सहस्त्र पंखुड़ियों वाला है, और बिलकुल उजले सफ़ेद रंग का है

– इस चक्र का न तो कोई धयान मंत्र है और न ही कोई बीज मंत्र, इस चक्र पर केवल गुरु का ध्यान किया जाता है

– कुण्डलिनी जब इस चक्र पर पहुँचती है तब जाकर वह साधना की पूर्णता पाती है और मुक्ति की अवस्था में आ जाती है

– इसी स्थान को तंत्र में काशी कहा जाता है

– इस स्थान पर सदगुरु का ध्यान या कीर्तन करने से व्यक्ति के मुक्ति मोक्ष का मार्ग सहज हो जाता है

तेजस्वनी पटेल, पत्रकार (+91 9340619119)

– तेजस्वनी पटेल, पत्रकार
(+91 9340619119)

 

FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏