🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Home09. राजविद्याराजगुह्ययोग

09. राजविद्याराजगुह्ययोग (5)

आसुरी व दैवी स्वभाव (सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अध्याय 9 शलोक 11 से 15)

ज्ञान वर्णन (सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अध्याय 9 शलोक 1 से 6)

पूजा के फल (सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अध्याय 9 शलोक 20 से 25)

भगवान की महिमा (सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अध्याय 9 शलोक 16 से 19)

संसार उत्पत्ति वर्णन (सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अध्याय 9 शलोक 7 से 10)

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏