🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

अर्जुन को योग प्रेरणा (अध्याय 11 शलोक 32 से 34)

अर्जुन को योग प्रेरणा (अध्याय 11 शलोक 32 से 34)

सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 11 शलोक 32

श्रीभगवानुवाच (THE LORD SAID):

कालोऽस्मि लोकक्षयकृत्प्रवृद्धो लोकान्समाहर्तुमिह प्रवृत्तः।
ऋतेऽपि त्वां न भविष्यन्ति सर्वे येऽवस्थिताः प्रत्यनीकेषु योधाः॥11- 32॥

Hमैं संसार का क्षय करने के लिये प्रवृद्ध (बढा) हुआ काल हूँ। और इस समय इन लोकों का संहार करने में प्रवृत्त हूँ। तुम्हारे बिना भी, यहाँ तुम्हारे विपक्ष में जो योद्धा गण स्थित हैं, वे भविष्य में नहीं रहेंगे।

El am the almighty time (kal), now inclined to and engaged in the destruction of worlds, and warriors of the opposing armies are going to die even without your killing them.
सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 11 शलोक 33
तस्मात्त्वमुत्तिष्ठ यशो लभस्व जित्वा शत्रून् भुङ्क्ष्व राज्यं समृद्धम्।
मयैवैते निहताः पूर्वमेव निमित्तमात्रं भव सव्यसाचिन्॥11- 33॥

Hइसलिये तुम उठो और अपने शत्रुयों को जीत कर यश प्राप्त करो और समृद्ध राज्य भोगो। तुम्हारे यह शत्रु मेरे द्वारा पैहले से ही मारे जा चुके हैं, हे सव्यसाचिन्, तुम केवल निमित्त-मात्र (कहने को) ही बनो।

ESo you should get up and earn renown and enjoy a thriving and affluent kingdom by vanquishing your enemies, because these warriors have already been killed by me and you, O Savyasachin (Arjun), have to be just the nominal agent of their destruction.
सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 11 शलोक 34
द्रोणं च भीष्मं च जयद्रथं च कर्णं तथान्यानपि योधवीरान्।
मया हतांस्त्वं जहि मा व्यथिष्ठा युध्यस्व जेतासि रणे सपत्नान्॥11- 34॥

Hद्रोण, श्री भीष्म, जयद्रथ, कर्ण तथा अन्य वीर योधा भी, मेरे द्वारा (पहले ही) मारे जा चुके हैं। व्यथा (गलत आग्रह) त्यागो और युध करो, तुम रण में अपने शत्रुओं को जीतोगे।

EDestroy, without any fear, Dronacharya, Bheeshm, Jayadrath, Karn, and the many other warriors who have already been killed by me, and fight because you will doubtlessly vanquish your foes.

Spiritual & Religious Store – Buy Online

View 100,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏