🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

शास्त्रोक्त आचरण प्रेरणा (अध्याय 16 शलोक 21 से 24)

शास्त्रोक्त आचरण प्रेरणा (अध्याय 16 शलोक 21 से 24)

सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 16 शलोक 21

श्री भगवान बोले (THE LORD SAID):

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः।
कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत्॥16- 21॥

Hनरक के तीन द्वार हैं जो आत्मा का नाश करते हैं – काम (इच्छा), क्रोध, तथा लोभ। इसलिये, इन तीनों का ही त्याग कर देना चाहिये।

ESince lust, anger, and greed are the three gateways to hell because they are destructive of the Self, they ought to be forsaken.
सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 16 शलोक 22
एतैर्विमुक्तः कौन्तेय तमोद्वारैस्त्रिभिर्नरः।
आचरत्यात्मनः श्रेयस्ततो याति परां गतिम्॥16- 22॥

Hइन तीनों अज्ञान के द्वारों से विमुक्त होकर मनुष्य अपने श्रेय (भले) के लिये आचरण करता है, और फिर परम गति को प्राप्त होता है।

EThe person, O son of Kunti, who escapes these three doors to hell, practises what is propitious for them and thus attains to the supreme State.
सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 16 शलोक 23
यः शास्त्रविधिमुत्सृज्य वर्तते कामकारतः।
न स सिद्धिमवाप्नोति न सुखं न परां गतिम्॥16- 23॥

Hजो शास्त्र में बताये मार्ग को छोड कर, अपनी इच्छा अनुसार आचरण करता है, न वह सिद्धि प्राप्त करता है, न सुख और न ही परम गति।

EThe one who transgresses scriptural injunction and acts indiscriminately according to his will achieves neither perfection nor the Supreme Goal, nor even happiness.
सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता - अध्याय 16 शलोक 24
तस्माच्छास्त्रं प्रमाणं ते कार्याकार्यव्यवस्थितौ।
ज्ञात्वा शास्त्रविधानोक्तं कर्म कर्तुमिहार्हसि॥16- 24॥

Hइसलिये तुम्हारे लिये शास्त्र प्रमाण रूप है (शास्त्र को प्रमाण मानकर) जिससे तुम जान सकते हो की क्या करने योग्य है और क्या नहीं करने योग्य है। शास्त्र द्वारा मार्ग को जान कर हि तुम्हें उसके अनुसार कर्म करना चाहिये।

ESo scripture is the authority on what ought and ought not to be done, and having learnt that you have the ability to act according to the provisions laid down by the scripture.
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏