01. आदिपर्व (225)

Chapter 1

0 नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरॊत्तमम देवीं सरस्वतीं चैव ततॊ जयम उदीरयेत 1 लॊमहर्षणपुत्र उग्रश्रवाः सूतः पौराणिकॊ नैमिषारण्ये शौनकस्य कुलपतेर दवादशवार्षिके सत्रे 2 समासीनान अभ्यगच्छद…
(0 votes)

Chapter 119

1 [व] ततः कषत्ता च राजा च भीष्मश च सह बन्धुभिः ददुः शराद्धं तदा पाण्डॊः सवधामृतमयं तदा 2 कुरूंश च विप्रमुख्यांश च भॊजयित्वा सहस्रशः रत्नौघान…
(0 votes)

Chapter 69

1 [षक] राजन सर्षप मात्राणि परच छिद्राणि पश्यसि आत्मनॊ बिल्वमात्राणि पश्यन्न अपि न पश्यसि 2 मेनका तरिदशेष्व एव तरिदशाश चानु मेनकाम ममैवॊद्रिच्यते जन्म दुःषन्त तव…
(0 votes)

Chapter 2

1 [रसयग] समन्तपञ्चकम इति यद उक्तं सूतनन्दन एतत सर्वं यथान्यायं शरॊतुम इच्छामहे वयम 2 [स] शुश्रूषा यदि वॊ विप्रा बरुवतश च कथाः शुभाः समन्तपञ्चकाख्यं च…
(0 votes)

Chapter 96

1 [व] हते चित्राङ्गदे भीष्मॊ बाले भरातरि चानघ पालयाम आस तद राज्यं सत्यवत्या मते सथितः 2 संप्राप्तयौवनं पश्यन भरातरं धीमतां वरम भीष्मॊ विचित्रवीर्यस्य विवाहायाकरॊन मतिम…
(0 votes)

Chapter 189

1 [वयास] पुरा वै नैमिषारण्ये देवाः सत्रम उपासते तत्र वैवस्वतॊ राजञ शामित्रम अकरॊत तदा 2 ततॊ यमॊ दीक्षितस तत्र राजन; नामारयत किं चिद अपि परजाभ्यः…
(0 votes)

Chapter 218

1 [वै] तस्याभिवर्षतॊ वारि पाण्डवः परत्यवारयत शरवर्षेण बीभत्सुर उत्तमास्त्राणि दर्शयन 2 शरैः समन्ततः सर्वं खाण्डवं चापि पाण्डवः छादयाम आस तद वर्षम अपकृष्य ततॊ वनात 3…
(0 votes)

Chapter 220

1 [ज] किमर्थं शार्ङ्गकान अग्निर न ददाह तथागते तस्मिन वने दह्यमाने बरह्मन्न एतद वदाशु मे 2 अदाहे हय अश्वसेनस्य दानवस्य मयस्य च कारणं कीर्तितं बरह्मञ…
(0 votes)

Chapter 57

1 [व] राजॊपरिचरॊ नाम धर्मनित्यॊ महीपतिः बभूव मृगयां गन्तुं स कदा चिद धृतव्रतः 2 स चेदिविषयं रम्यं वसुः पौरवनन्दनः इन्द्रॊपदेशाज जग्राह गरहणीयं महीपतिः 3 तम…
(0 votes)

Chapter 77

1 [व] ययातिः सवपुरं पराप्य महेन्द्र पुरसंनिभम परविश्यान्तःपुरं तत्र देव यानीं नयवेशयत 2 देव यान्याश चानुमते तां सुतां वृषपर्वणः अशॊकवनिकाभ्याशे गृहं कृत्वा नयवेशयत 3 वृतां…
(0 votes)

Chapter 222

1 [जरिता] अस्माद बिलान निष्पतितं शयेन आखुं जहार तम कषुद्रं गृहीत्वा पादाभ्यां भयं न भविता ततः 2 [षार्न्गकाह] न हृतं तं वयं विद्मः शयेनेनाखुं कथं…
(0 votes)

Chapter 48

1 [ष] सर्पसत्रे तदा राज्ञः पाण्डवेयस्य धीमतः जनमेजयस्य के तव आसन्न ऋत्विजः परमर्षयः 2 के सदस्या बभूवुश च सर्पसत्रे सुदारुणे विषादजनने ऽतयर्थं पन्नगानां महाभये 3…
(0 votes)

Chapter 81

1 [व] एवं स नाहुषॊ राजा ययातिः पुत्रम ईप्सितम राज्ये ऽभिषिच्य मुदितॊ वानप्रस्थॊ ऽभवन मुनिः 2 उषित्वा च वनेवासं बराह्मणैः सह संश्रितः फलमूलाशनॊ दान्तॊ यथा…
(0 votes)

Chapter 155

1 [बराह्मण] अमर्षी दरुपदॊ राजा कर्मसिद्धान दविजर्षभान अन्विच्छन परिचक्राम बराह्मणावसथान बहून 2 पुत्र जन्म परीप्सन वै शॊकॊपहतचेतनः नास्ति शरेष्ठं ममापत्यम इति नित्यम अचिन्तयत 3 जातान…
(0 votes)

Chapter 135

1 [वै] विदुरस्य सुहृत कश चित खनकः कुशलः कव चित विविक्ते पाण्डवान राजन्न इदं वचनम अब्रवीत 2 परहितॊ विदुरेणास्मि खनकः कुशलॊ भृशम पाण्डवानां परियं कार्यम…
(0 votes)

Chapter 62

1 [ज] तवत्तः शरुतम इदं बरह्मन देवदानवरक्षसाम अंशावतरणं सम्यग गन्धर्वाप्सरसां तथा 2 इमं तु भूय इच्छामि कुरूणां वंशम आदितः कथ्यमानं तवया विप्र विप्रर्षिगणसंनिधौ 3 [व]…
(0 votes)

Chapter 88

1 [वस] पृच्छामि तवां वसु मना रौशदश्विर; यद्य अस्ति लॊकॊ दिवि मह्यं नरेन्द्र यद्य अन्तरिक्षे परथितॊ महात्मन; कषेत्रज्ञं तवां तस्य धर्मस्य मन्ये 2 [य] यद…
(0 votes)

Chapter 123

1 [वै] अर्जुनस तु परं यत्नम आतस्थे गुरु पूजने अस्त्रे च परमं यॊगं परियॊ दरॊणस्य चाभवत 2 दरॊणेन तु तदाहूय रहस्य उक्तॊ ऽननसाधकः अन्धकारे ऽरजुनायान्नं…
(0 votes)

Chapter 109

1 [ज] कथितॊ धार्तराष्ट्राणाम आर्षः संभव उत्तमः अमानुषॊ मानुषाणां भवता बरह्म वित्तम 2 नामधेयानि चाप्य एषां कथ्यमानानि भागशः तवत्तः शरुतानि मे बरह्मन पाण्डवानां तु कीर्तय…
(0 votes)

Chapter 115

1 [व] कुन्तीपुत्रेषु जातेषु धृतराष्ट्रात्मजेषु च मद्रराजसुता पाण्डुं रहॊ वचनम अब्रवीत 2 न मे ऽसति तवयि संतापॊ विगुणे ऽपि परंतप नावरत्वे वरार्हायाः सथित्वा चानघ नित्यदा…
(0 votes)

Chapter 95

1 [व] ततॊ विवाहे निर्वृत्ते स राजा शंतनुर नृपः तां कन्यां रूपसंपन्नां सवगृहे संन्यवेशयत 2 ततः शांतनवॊ धीमान सत्यवत्याम अजायत वीरश चित्राङ्गदॊ नाम वीर्येण मनुजान…
(0 votes)

Chapter 3

1 [सूत] जनमेजयः पारिक्षितः सह भरातृभिः कुरुक्षेत्रे दीर्घसत्त्रम उपास्ते तस्य भरातरस तरयः शरुतसेनॊग्रसेनॊ भीमसेन इति 2 तेषु तत सत्रम उपासीनेषु तत्र शवाभ्यागच्छत सारमेयः सजनमेजयस्य भरातृभिर…
(0 votes)

Chapter 219

1 [वै] तथा शैलनिपातेन भीषिताः खाण्डवालयाः दानवा राक्षसा नागास तरक्ष्वृक्षवनौकसः दविपाः परभिन्नाः शार्दूलाः सिंहाः केसरिणस तथा 2 मृगाश च महिषाश चैव शतशः पक्षिणस तथा समुद्विग्ना…
(0 votes)

Chapter 5

1 [षौनक] पुराणम अखिलं तात पिता ते ऽधीतवान पुरा कच चित तवम अपि तत सर्वम अधीषे लॊमहर्षणे 2 पुराणे हि कथा दिव्या आदिवंशाश च धीमताम…
(0 votes)

Chapter 35

1 [स] एलापत्रस्य तु वचः शरुत्वा नागा दविजॊत्तम सर्वे परहृष्टमनसः साधु साध्व इत्य अपूजयन 2 ततः परभृति तां कन्यां वासुकिः पर्यरक्षत जरत्कारुं सवसारं वै परं…
(0 votes)

Chapter 224

1 [वै] मन्दपालॊ ऽपि कौरव्य चिन्तयानः सुतांस तदा उक्तवान अप्य अशीतांशुं नैव स सम न तप्यते 2 स तप्यमानः पुत्रार्थे लपिताम इदम अब्रवीत कथं नव…
(0 votes)

Chapter 172

1 [ग] एवम उक्तः स विप्रर्षिर वसिष्ठेन महात्मना नययच्छद आत्मनः कॊपं सर्वलॊकपराभवात 2 ईजे च स महातेजाः सर्ववेदविदां वरः ऋषी राक्षस सत्रेण शाक्तेयॊ ऽथ पराशरः…
(0 votes)

Chapter 60

1 [व] बरह्मणॊ मानसाः पुत्रा विदिताः षण महर्षयः एकादश सुताः सथाणॊः खयाताः परममानसाः 2 मृगव्याधश च शर्वश च निरृतिश च महायशाः अजैक पाद अहिर बुध्न्यः…
(0 votes)

Chapter 70

1 [व] परजापतेस तु दक्षस्य मनॊर वैवस्वतस्य च भरतस्य कुरॊः पूरॊर अजमीढस्य चान्वये 2 यादवानाम इमं वंशं पौरवाणां च सर्वशः तथैव भारतानां च पुण्यं सवस्त्य…
(0 votes)

Chapter 97

1 [व] ततः सत्यवती दीना कृपणा पुत्रगृद्धिनी पुत्रस्य कृत्वा कार्याणि सनुषाभ्यां सह भारत 2 धर्मं च पितृवंशं च मातृवंशं च मानिनी परसमीक्ष्य महाभागा गाङ्गेयं वाक्यम…
(0 votes)

Chapter 137

1 [वै] अथ रात्र्यां वयतीतायाम अशॊषॊ नागरॊ जनः तत्राजगाम तवरितॊ दिदृक्षुः पाण्डुनन्दनान 2 निर्वापयन्तॊ जवलनं ते जना ददृशुस ततः जातुषं तद्गृहं दग्धम अमात्यं च पुरॊचनम…
(0 votes)

Chapter 25

1 [सू] तस्य कण्ठम अनुप्राप्तॊ बराह्मणः सह भार्यया दहन दीप्त इवाङ्गारस तम उवाचान्तरिक्षगः 2 दविजॊत्तम विनिर्गच्छ तूर्णम आस्याद अपावृतान न हि मे बराह्मणॊ वध्यः पापेष्व…
(0 votes)

Chapter 71

1 [ज] ययातिः पूर्वकॊ ऽसमाकं दशमॊ यः परजापतेः कथं स शुक्रतनयां लेभे परमदुर्लभाम 2 एतद इच्छाम्य अहं शरॊतुं विस्तरेण दविजॊत्तम आनुपूर्व्या च मे शंस पूरॊर…
(0 votes)

Chapter 157

1 [वै] वसत्सु तेषु परच्छन्नं पाण्डवेषु महात्मसु आजगामाथ तान दरष्टुं वयासः सत्यवती सुतः 2 तम आगतम अभिप्रेक्ष्य परत्युद्गम्य परंतपाः परणिपत्याभिवाद्यैनं तस्थुः पराञ्जलयस तदा 3 समनुज्ञाप्य…
(0 votes)

Chapter 36

1 [ष] जरत्कारुर इति परॊक्तं यत तवया सूतनन्दन इच्छाम्य एतद अहं तस्य ऋषेः शरॊतुं महात्मनः 2 किं कारणं जरत्कारॊर नामैतत परथितं भुवि जरत्कारु निरुक्तं तवं…
(0 votes)

Chapter 166

1 [ग] कल्माषपाद इत्य अस्मिँल लॊके राजा बभूव ह इक्ष्वाकुवंशजः पार्थ तेजसासदृशॊ भुवि 2 स कदा चिद वनं राजा मृगयां निर्ययौ पुरात मृगान विध्यन वराहांश…
(0 votes)

Chapter 17

1 [स] अथावरण मुख्यानि नानाप्रहरणानि च परगृह्याभ्यद्रवन देवान सहिता दैत्यदानवाः 2 ततस तद अमृतं देवॊ विष्णुर आदाय वीर्यवान जहार दानवेन्द्रेभ्यॊ नरेण सहितः परभुः 3 ततॊ…
(0 votes)

Chapter 22

1 [सू] एवं सतुतस तदा कद्र्वा भगवान हरिवाहनः नीलजीमूतसंघातैर वयॊम सर्वं समावृणॊत 2 ते मेघा मुमुचुस तॊयं परभूतं विद्युद उज्ज्वलाः परस्परम इवात्यर्थं गर्जन्तः सततं दिवि…
(0 votes)

Chapter 31

1 [ष] भुजंगमानां शापस्य मात्रा चैव सुतेन च विनतायास तवया परॊक्तं कारणं सूतनन्दन 2 वरप्रदानं भर्त्रा च करद्रू विनतयॊस तथा नामनी चैव ते परॊक्ते पक्षिणॊर…
(0 votes)

Chapter 186

1 [दूत] जन्यार्थम अन्नं दरुपदेन राज्ञा; विवाह हेतॊर उपसंस्कृतं च तद आप्नुवध्वं कृतसर्वकार्याः; कृष्णा च तत्रैव चिरं न कार्यम 2 इमे रथाः काञ्चनपद्मचित्राः; सदश्वयुक्ता वसुधाधिपार्हाः…
(0 votes)

Chapter 44

1 [स] गतमात्रं तु भर्तारं जरत्कारुर अवेदयत भरातुस तवरितम आगम्य यथातथ्यं तपॊधन 2 ततः स भुजग शरेष्ठः शरुत्वा सुमहद अप्रियम उवाच भगिनीं दीनां तदा दीनतरः…
(0 votes)

Chapter 65

1 [व] ततॊ गच्छन महाबाहुर एकॊ ऽमात्यान विसृज्य तान नापश्यद आश्रमे तस्मिंस तम ऋषिं संशितव्रतम 2 सॊ ऽपश्यमानस तम ऋषिं शून्यं दृष्ट्वा तम आश्रमम उवाच…
(0 votes)

Chapter 195

1 [भस] न रॊचते विग्रहॊ मे पाण्डुपुत्रैः कथं चन यथैव धृतराष्ट्रॊ मे तथा पाण्डुर असंशयम 2 गान्धार्याश च यथा पुत्रास तथा कुन्तीसुता मताः यथा च…
(0 votes)

Chapter 158

1 [वै] ते परतस्थुः पुरस्कृत्य मातरं पुरुषर्षभाः समैर उदङ्मुखैर मार्गैर यथॊद्दिष्टं परंतपाः 2 ते गच्छन्तस तव अहॊरात्रं तीर्थं सॊमश्रवायणम आसेदुः पुरुषव्याघ्रा गङ्गायां पाण्डुनन्दनाः 3 उल्मुकं…
(0 votes)

Chapter 9

1 [सूत] तेषु तत्रॊपविष्टेषु बराह्मणेषु समन्ततः रुरुश चुक्रॊश गहनं वनं गत्वा सुदुःखितः 2 शॊकेनाभिहतः सॊ ऽथ विलपन करुणं बहु अब्रवीद वचनं शॊचन परियां चिन्त्य परमद्वराम…
(0 votes)

Chapter 184

1 [वै] धृष्टद्युम्नस तु पाञ्चाल्यः पृष्ठतः कुरुनन्दनौ अन्वगच्छत तदा यान्तौ भार्गवस्य निवेशनम 2 सॊ ऽजञायमानः पुरुषान अवधाय समन्ततः सवयम आरान निविष्टॊ ऽभूद भार्गवस्य निवेशने 3…
(0 votes)

Chapter 204

1 [नारद] जित्वा तु पृथिवीं दैत्यौ निःसपत्नौ गतव्यथौ कृत्वा तरैलॊक्यम अव्यग्रं कृतकृत्यौ बभूवतुः 2 देवगन्धर्वयक्षाणां नागपार्थिव रक्षसाम आदाय सर्वरत्नानि परां तुष्टिम उपागतौ 3 यदा न…
(0 votes)

Chapter 98

1 [भस] जामदग्न्येन रामेण पितुर वधम अमृष्यता करुद्धेन च महाभागे हैहयाधिपतिर हतः शतानि दश बाहूनां निकृत्तान्य अर्जुनस्य वै 2 पुनश च धनुर आदाय महास्त्राणि परमुञ्चता…
(0 votes)

chapter 217

1 [वै] तौ रथाभ्यां नरव्याघ्रौ दावस्यॊभयतः सथितौ दिक्षु सर्वासु भूतानां चक्राते कदनं महत 2 यत्र यत्र हि दृश्यन्ते पराणिनः खाण्डवालयाः पलायन्तस तत्र तत्र तौ वीरौ…
(0 votes)

Chapter 68

1 [व] परतिज्ञाय तु दुःषन्ते परतियाते शकुन्तला गर्भं सुषाव वामॊरुः कुमारम अमितौजसम 2 तरिषु वर्षेषु पूर्णेषु दिप्तानल समद्युतिम रूपौदार्यगुणॊपेतं दौःषन्तिं जनमेजय 3 जातकर्मादि संस्कारं कण्वः…
(0 votes)
  •  Start 
  •  Prev 
  •  1 
  •  2 
  •  3 
  •  4 
  •  5 
  •  Next 
  •  End 
Page 1 of 5
 

नम्रता का पाठ

एक बार अमेरिका के राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन नगर की स्थिति का जायजा लेने के लिए निकले। रास्ते में एक जगह भवन का निर्माण कार्य चल रहा था। वह कुछ देर के लिए वहीं रुक गए और वहां चल रहे कार्य को गौर से देखने लगे। कुछ देर में उन्होंने देखा कि कई मजदूर एक बड़ा-सा पत्थर उठा कर इमारत पर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं। किंतु पत्थर बहुत ही भारी था, इसलिए वह more...

व्यर्थ की लड़ाई

एक आदमी के पास बहुत जायदाद थी| उसके कारण रोज कोई-न-कोई झगड़ा होता रहता था| बेचारा वकीलों और अदालत के चक्कर के मारे परेशान था| उसकी स्त्री अक्सर बीमार रहती थी| वह दवाइयां खा-खाकर जीती थी और डॉक्टरों के मारे उसकी नाक में दम था| एक दिन पति-पत्नी में झगड़ा हो गया| पति ने कहा - "मैं लड़के को वकील बनाऊंगा, जिससे वह मुझे सहारा दे सके|" more...

धर्म और दुकानदारी

एक दिन एक पण्डितजी कथा सुना रहे थे| बड़ी भीड़ इकट्ठी थी| मर्द, औरतें, बच्चे सब ध्यान से पण्डितजी की बातें सुन रहे थे| पण्डितजी ने कहा - "इस दुनिया में जितने प्राणी हैं, सबमें आत्मा है, सारे जीव एक-समान हैं| भीड़ में एक लड़का और उसका बाप बैठा था| पण्डितजी की बात लड़के को बहुत पसंद आई और उसने उसे गांठ बांध ली| अगले दिन लड़का दुकान पर गया| थोड़ी देर में एक more...
 

समझदारी की बात

एक सेठ था| उसने एक नौकर रखा| रख तो लिया, पर उसे उसकी ईमानदारी पर विश्वास नहीं हुआ| उसने उसकी परीक्षा लेनी चाही| अगले दिन सेठ ने कमरे के फर्श पर एक रुपया डाल दिया| सफाई करते समय नौकर ने देखा| उसने रुपया उठाया और उसी समय सेठ के हवाले कर दिया| दूसरे दिन वह देखता है कि फर्श पर पांच रुपए का नोट पड़ा है| उसके मन में थोड़ा शक पैदा हुआ| more...

आध्यात्मिक जगत - World of Spiritual & Divine Thoughts.

Disclaimer

 

इस वेबसाइट का उद्देश्य जन साधारण तक अपना संदेश पहुँचाना है| ताकि एक धर्म का व्यक्ति दूसरे धर्म के बारे में जानकारी ले सके| इस वेबसाइट को बनाने के लिए विभिन्न पत्रिकाओं, पुस्तकों व अखबारों से सामग्री एकत्रित की गई है| इसमें किसी भी प्रकार की आलोचना व कटु शब्दों का प्रयोग नहीं किया गया|
Special Thanks to Dr. Rajni Hans, Ms. Karuna Miglani, Ms. Anisha Arora, Mr. Ashish Hans, Ms. Mini Chhabra & Ms. Ginny Chhabra for their contribution in development of this spiritual website. Privacy Policy | Media Partner | Wedding Marketplace

Vulnerability Scanner

Connect With Us