🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeभगवान हनुमान जी की कथाएँऋषियों का शाप (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

ऋषियों का शाप (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

ऋषियों का शाप (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) - शिक्षाप्रद कथा

बालक हनुमान बड़े ही चंचल और नटखट थे| एक तो प्रलयंकर शंकर के अवतार, दूसरे कपि-शावक, उस पर देवताओं द्वारा प्रदत्त अमोघ वरदान| इनकी चपलता से माता-पिता प्रसन्न होते| मृगराज की पूंछ पकड़कर उसे चारों ओर घुमाना और हाथी को पकड़कर उसकी शक्ति का अनुमान लगाना तो प्रायः इनकी नित्य की क्रीड़ा के अंतर्गत था| कभी ये विशाल वृक्षों को मूल सहित हिला देते| पर्वत का कोई शिखर ऐसा नहीं था, जहां ये छलांग मारकर न पहुंच जाएं| संपूर्ण अगम्य वन एवं पर्वत इनके देखे भाले थे|

वन के प्राणी प्रायः इनसे घबराते, किंतु अंदर से इन्हें प्यार भी करते थे| ये समस्त प्राणियों के मित्र और रक्षक थे| कोई सबल किसी दुर्बल को कष्ट दे, यह हनुमान जी को सहन नहीं था| ये एक वृक्ष की चोटी से दूसरे वृक्ष की चोटी पर कूदते हुए योजनों दूर निकल जाते| इनके भार से यदि किसी वृक्ष की डाल के टूटने की आशंका होती तो ये हल्के हो जाते|

वरदानजनित शक्ति से संपन्न हनुमान जी तपस्वी ऋषियों के आश्रम में चले जाते और वहां कुछ-न-कुछ ऐसी चपलता कर बैठते, जिससे ऋषियों को क्लेश पहुंचता| एक ऋषि का आसन दूसरे ऋषि के समीप रख देते| किसी का मृगचर्म ओढ़कर पेड़ों पर कूदते या उसे किसी वृक्ष पर टांग देते| किसी के कमंडलु का जल उलट देते तो किसी का कमंडलु पटककर फोड़ देते या उसको जल में बहा देते|

हनुमान जी जप करते मुनियों की गोद में बैठ जाते| अहिंसापरायण मूनि ध्यानस्थ होकर जप करते रहते, किंतु ये वानर शिरोमणि मुनि की दाढी नोचकर भाग जाते| किसी की कौपीन तो किसी के पाठ की पोथी अपने दांतों और हाथों से फाड़कर फेंक देते| ये महाबली पवन कुमार महात्माओं के यज्ञोपयोगी पात्र भी नष्ट कर देते तथा कठिनाइयों से प्राप्त ढेर-के-ढेर वल्कलों को चीर-फाड़कर फेंक देते थे| ब्रह्मादि देवताओं के द्वारा दिए गए वरदान से परिचित होने के कारण ऋषिगण अवश थे, चुप रह जाते, पर उन्हें बड़ा क्लेश पहुंचता|
धीरे-धीरे हनुमान जी की आयु विद्याध्ययन के योग्य हो गई, पर इनकी चंचलता बनी ही रही| माता-पिता भी बड़े चिंतित थे| उन्होंने अपने प्राणप्रिय लाल को अनेक प्रकार से समझाया, कई प्रकार के यत्न किए, किंतु हनुमान जी की चपलता में कमी नहीं आई| अंतत: अंजना और वानरराज केसरी ऋषियों के समीप पहुंचे| ऋषियों ने भी अपनी कष्ट-गाथा उन्हें कह सुनाई| उन्होंने ऋषियों से विनम्रतापूर्वक निवेदन किया – “तपोधन, हमें यह बालक बहुत दिनों के बाद कठोर तप के प्रभाव से प्राप्त हुआ है| आप लोग इस पर अनुग्रह करें| ऐसी कृपा करें, जिससे यह विद्या प्राप्त कर ले| आप लोगों की करुणा से ही इसका स्वभाव परिवर्तन संभव है| आप हम दोनों पर दया करें|”

ऋषियों ने सोचा – ‘इसे अपनी अमित शक्ति एवं पराक्रम का अभिमान है| यदि यह अपना बल भूल जाए तो इसका यथार्थ हित हो सकता है|’

कुछ वयोवृद्ध समर्थ ऋषि यह भी जानते थे कि यह बालक देवताओं का हित – साधन करनेवाला है| यह भगवान श्रीराम का अनन्य भक्त होगा और अनुगत भक्त के लिए बल का अहंकार उचित नहीं| दीन-भाव से ही प्रभु का कार्य निभ सकेगा|

इस कारण भृगु एवं अंगिरा के वंश में उत्पन्न हुए ऋषियों ने हनुमान को शाप दे दिया – “वानर वीर, तुम जिस बल का आश्रय लेकर हमें सता रहे हो, उसे हमारे शाप से मोहित होकर दीर्घकाल तक भूले रहोगे| तुम्हें अपने बल का पता ही न चलेगा| जब कोई तुम्हारी कीर्ति का स्मरण दिलाएगा, तभी तुम्हारा बल बढ़ेगा|”

तपस्वी मुनियों के इस प्रकार शाप देने से पवन कुमार का तेज और ओज कम हो गया और ये अत्यंत सौम्य स्वभाव के हो गए| अब ये अन्य कपि-किशोरों की तरह आश्रमों में शांत भाव से विचरण करते| इनके मृदुल व्यवहार से ऋषि-मुनि भी प्रसन्न रहने लगे|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏