🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeभगवान हनुमान जी की कथाएँहनुमान ऋषि आश्रम में (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

हनुमान ऋषि आश्रम में (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

हनुमान ऋषि आश्रम में (भगवान हनुमान जी की कथाएँ) - शिक्षाप्रद कथा

हनुमान जी जब लंका दहन करके लौट रहे थे, तब उन्हें समुद्रोलंघन, सीतान्वेषण, रावण मद-मर्दन एवं लंका दहन आदि कार्यों का कुछ गर्व हो गया| दयालु भगवान इसे ताड़ गए| हनुमान जी घोर गर्जना करते हुए जा ही रहे थे कि रास्ते में उन्हें बड़ी प्यास लगी| महेंद्राचल पर उन्होंने दृष्टि दौड़ाई तो उनकी दृष्टि एक मुनि पर गई, जो शांत बैठे हुए थे|

उनके पास जाकर हनुमान जी ने कहा – “मुनिवर! मैं श्रीरामचंद्र का सीतान्वेषण का कार्य करके लौट रहा हूं, मुझे बड़ी प्यास लगी है, थोडा जल दीजिए या किसी जलाशय का पता बताइए|”

मुनि ने उन्हें तर्जनी उंगली से एक जलाशय की ओर इशारा किया| हनुमान जी सीता की दी हुई चूड़ामणि, मुद्रिका और ब्रह्मा जी का दिया हुआ पत्र – यह सब मुनि के आगे रखकर जल पीने चले गए|

इतने में एक दूसरा बंदर आया, उसने इन सभी वस्तुओं को उठाकर मुनि के कमंडलु में डाल दिया| तब तक हनुमान जी भी जल पीकर लौट आए| अपनी वस्तुओं को वहां न देखकर उन्होंने मुनि से पूछा| मुनि ने भौहों के इशारे से उन्हें कमंडलु की ओर इशारा किया| हनुमान जी ने चुपचाप जाकर कमंडलु में देखा तो ठीक उसी प्रकार की रामनाम अंकित हजारों मुद्रिकाएं दिखाई पड़ीं| अब वे बहुत घबराए| उन्होंने पूछा – “ये सब मुद्रिकाएं आपको कहां से मिलीं तथा इनमें मेरी मुद्रिका कौन-सी है?”

मुनि ने उत्तर दिया – “जब-जब श्रीरामावतार होता है और सीता हरण के पश्चात हनुमान जी पता लगाकर लौटते हैं, तब शोध मुद्रिका यहीं छोड़ जाते हैं| वे ही सब मुद्रिकाएं इसमें पड़ी हैं|”

अब तो हनुमान जी का गर्व गल गया| उन्होंने पूछा – “मुने! कितने राघव यहां आए हैं?”

मुनि ने कहा – “यह तो मुद्रिकाओं की गणना से ही पता चल सकता है|”

जब हनुमान जी ने देखा तो उन मुद्रिकाओं का कोई अंत नहीं था| उन्होंने सोचा – ‘भला मुझ जैसे कितने लोगों ने ऐसे कार्य कर रखे हैं, इसमें मेरी क्या गणना|’ फिर वे वहां से चलकर अंगदादि से मिलकर प्रभु के पास आए और अत्यंत डरते हुए प्रभु श्रीराम से कहा – “प्रभो! मुझसे एक बहुत बड़ा अपराध हो गया है|” और फिर सारा वृत्तांत सुना दिया|

यह सुनकर प्रभु श्रीराम ने कहा – “भद्र! मुनि रूप में तुम्हारे कल्याण के लिए मैंने ही वह कौतुक रचा था| देखो, वह मुद्रिका तो मेरी उंगली में ही लगी है|”

अब हनुमान जी का गर्व सर्वथा नष्ट हो गया| उन्होंने प्रभु के विष्णु स्वरूप पर विश्वास किया और बड़ी ही श्रद्धा से उनके चरणों पर गिर गए और चिरकाल तक लेटे रहे|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏