Skip to content

Spiritual and Religious library with mp3 stories and youtube videos

Loading...
Increase font size  Decrease font size  Default font size 
प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat)
हिन्दू व्रत, विधि व कथा

SHARE & be the first of your friends.




प्रदोष का अर्थ है रात्रि का शुभ आरम्भ|इस व्रत के पूजन का विधान इसी समय होता है| इसलिए इसे प्रदोष व्रत कहते हैं| यह व्रत शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को किया जाता हैं| इसका उदेशय संतान की कामना है|इस व्रत को स्त्री पुरुष दोनों ही कर सकते हैं| इस व्रत के उपास्य देव भगवान शंकर हैं|


विधि:

सांयकाल को व्रत करने वाले को शिव शंकर की पूजा करके अल्प आहार करना चाहिए| कृष्ण पक्ष का शनि प्रदोष विशेष पुण्दायी होता है| शंकर जी का दिन सोमवार है|इस दिन पड़ने वाला प्रदोष सोम प्रदोष कहलाता है| प्रदोष व्रत के लिए श्रावण के हर सोमवार का विशेष महत्व है|

Please give us your comments and feedback
 
 
Social Network Website

The Yoga Sutras of Patanjali

Quick Review

Home | धार्मिक व शिक्षाप्रद कथाएँ | भजन संग्रह | Patanjali Yoga Sutras - I | Patanjali Yoga Sutras - II | Patanjali Yoga Sutras - III | Patanjali Yoga Sutras - IV | SItemap | घरेलू नुस्ख़े
Designed & Maintained by sinfome.com for any feedback or query Kindly Mail to "info (a) sinfome.com"