Skip to content

Spiritual and Religious library with mp3 stories and youtube videos

Loading...
Increase font size  Decrease font size  Default font size 
आध्यात्मिक जगत > हिन्दू व्रत, विधि व कथा > वट सावित्री व्रत (Vat Savitri Vrat)
वट सावित्री व्रत (Vat Savitri Vrat)
हिन्दू व्रत, विधि व कथा

SHARE & be the first of your friends.




वट सावित्री व्रत ज्येष्ट मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को सम्पन्न किया जाता है| यह स्त्रियों का महत्वपूर्ण पर्व है| इस दिन सत्यवान, सावित्री तथा यमराज की पूजा की जाती है| सावित्री ने इसी व्रत के प्रभाव से अपने मृतक पति सत्यवान को धर्मराज से छुड़ाया था|


विधि:

वट वृक्ष के नीचे मिटटी की बानी सावित्री और सत्यवान तथा भैंसे पर सवार यम की प्रतिमा स्थापित कर पूजा करनी चाहिए तथा बड़ की जड़ में पानी देना चाहिए| पूजा के लिए जल, मौली, रोली, कच्चा सूत, भिगोया हुआ चना, फूल तथा धूप होनी चाहिए| जल से वट वृक्ष को सींच कर तने के चारों ओर कच्चा धागा लपेटकर तीन बार परिक्रमा करनी चाहिए| इसके बाद सत्यवान और सावित्री की कथा सुननी चाहिए| कथा के बाद भीगे हुए चनों का बायना निकालकर उस पर यथाशक्ति रूपये रखकर अपनी सास को देना चाहिए तथा उनके चरण स्पर्श करना चाहिए|

Please give us your comments and feedback
 
 
Social Network Website

Advertise on this portal

The Yoga Sutras of Patanjali

Home | धार्मिक व शिक्षाप्रद कथाएँ | भजन संग्रह | Patanjali Yoga Sutras - I | Patanjali Yoga Sutras - II | Patanjali Yoga Sutras - III | Patanjali Yoga Sutras - IV | SItemap | घरेलू नुस्ख़े
Designed & Maintained by sinfome.com for any feedback or query Kindly Mail to "info (a) sinfome.com"