Skip to content

Spiritual and Religious library with mp3 stories and youtube videos

Loading...
Increase font size  Decrease font size  Default font size 
आध्यात्मिक जगत > आरती, चालीसा व मंत्र संग्रह > आरती संग्रह (64) > श्री सत्यनारायण जी की आरती (Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti)

आरती संग्रह

श्री सत्यनारायण जी की आरती (Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti)

SHARE & be the first of your friends.




जय श्री लक्ष्मी रमणा स्वामी जय लक्ष्मी रमणा |Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti in Hindi and English श्री सत्यनारायण जी की आरती (Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti)
सत्यनारायण स्वामी जन पातक हरणा || जय

रत्त्न जड़ित सिंहासन अदूभुत छवि राजै |
नाद करद निरन्तर घण्टा ध्वनि बाजै || जय

प्रकट भये कलि कारण द्विज को दर्श दियो |
बूढ़ा ब्राह्मण बन के कंचन महल कियो || जय

दुर्बल भील कराल जिन पर कृपा करी |
चन्द्रचूढ़ इक राजा तिनकी विपत हरी || जय

वैश्य मनोरथ पायो श्रद्धा तज दीनी |
सो फल भोग्यो प्रभु जी फेर स्तुति कीन्ही || जय

भाव भक्ति के कारण छिन - छिन रूप धरयो |
श्रद्धा धारण कीनी जन को काज सरयो || जय

ग्वाल बाल संग राजा बन में भक्ति करी |
मनवांछित फल दीना दीनदयाल हरी || जय

चढ़त प्रसाद सवाया कदली फल मेवा |
धूप दीप तुलसी से राजी सत्य देवा || जय

श्री सत्यनारायण जी की आरती जो कोई गावै |
कहत शिवानंद स्वामी मनवांछित फल पावै || जय

Please give your comments and feedback
 
Social Network Website

Advertise on this portal

The Yoga Sutras of Patanjali

Home | धार्मिक व शिक्षाप्रद कथाएँ | भजन संग्रह | Patanjali Yoga Sutras - I | Patanjali Yoga Sutras - II | Patanjali Yoga Sutras - III | Patanjali Yoga Sutras - IV | SItemap | घरेलू नुस्ख़े
Designed & Maintained by sinfome.com for any feedback or query Kindly Mail to "info (a) sinfome.com"