Top videos

  • सिक्ख गुरु साहिबान
दामोदर को सांप के काटने और साईं बाबा द्वारा बिना किसी मंत्र-तंत्र अथवा दवा-दारू के उसके शरीर से जहर ...
गोपालराव गुंड की एक इच्छा तो पूर्ण हो गई थी| उसी तरह उनकी एक और इच्छा भी थी कि मस्जिद का ...
पूना के रहनेवाले गोपाल नारायण अंबेडकर बाबा के अनन्य भक्त थे| वे सरकारी कर्मचारी थे| शुरू में वे ...
शिरडी में जिस तरह रामजन्म उत्सव मनाया जाता, वैसे ही कृष्ण जन्मोत्सव भी मनाया जाता था| पालना बांधकर ...
बालागनपत दर्जी शिरडी में रहते थे| वह बाबा के परम भक्त थे| एक बार उन्हें जीर्ण ज्वर हो गया| बुखार की ...
शिरडी के पास के गांव में लक्ष्मीबाई नाम की एक स्त्री रहा करती थी| नि:संतान होने के कारण वह रात-दिन ...
शिरडी में रहते हुए एक बार बाबा साहब की पत्नी श्रीमती तर्खड दोपहर के समय खाना खाने बैठी थीं| उसी समस ...
व्रत के नियम साईं व्रत कोई भी कर सकतें हैं चाहे - स्त्री, पुरुष और बच्चे| यह व्रत किसी भी जाति ...
एक बार चाँदोरकर के साथ एक सज्जन साईं बाबा से मिलने के लिए शिरडी आये थे| उन्होंने योग साधना के ...
बाबा केवल यही चाहते थे कि सबका भला हो| बाबा अपने पास आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सत्य-मार्ग पर ...
एक बार की बात है - बाबा के एक भक्त ने बाबा की अनुपस्थिति में अन्य लोगों के सामने एक दोस्त की बात ...
हरदा गांव निवासी दत्तोपंत चौदह साल से पेटदर्द की पीड़ा से परेशान थे| उन्होंने हर तरह का इलाज करवाया ...
ठीक उसी समय मस्जिद में घंटी बजने लगी| बाबा के भक्त रोजाना दोपहर को बाबा की पूजा और आरती करते थे| यह ...
साईं बाबा अपने शिष्य के साथ बैठे आध्यात्मिक विषय पर बातें कर रहे थे कि तभी एक बूढ़ा व्यक्ति ...
साईं बाबा जब दामोदर तथा कुछ अन्य शिष्यों को साथ लेकर तात्या के घर पहुंचे, तो तात्या बेहोशी में न ...
शिरडी आने वाले लोगों में कई लोग किसी धार्मिक ग्रंथ का पाठ करते थे| या तो मस्जिद में बैठकर बाबा के ...
साईं बाबा कभी-कभी अपने भक्तों के साथ हँसी-मजाक भी किया करते थे, परन्तु उनकी इस बात से न केवल भक्तों ...
बांद्रा निवासी रघुवीर भास्कर पुरंदरे साईं बाबा के परम भक्त थे| जो अवसर शिरडी जाते रहते थे| जब वे एक ...
जय ऊँ, जय ऊँ, जय जय ऊँ, ऊँ, ऊँ, ऊँ, ऊँ, जय जय ऊँ|जय साईं, जय साईं, जय साईं ऊँ, ऊँ साईं, ऊँ साईं, ऊँ ...
नांदेड में रहनेवाले रतनजी शापुरजी वाडिया एक फारसी सज्जन थे| उनका बहुत बड़ा व्यवसाय था| किसी भी चीज ...
अमरासवती जिले के रहनेवाले दादा साहब खापर्डे की पत्नी श्रीमती खापर्डे अपने छोटे पुत्र के साथ शिरडी ...
किसी के बारे में कोई भला-बुरा कहे या बुराई करे, यह बाबा को बिल्कुल पसंद नहीं था| बाबा सब जान जाते ...
साईं बाबा जब से शिरडी में आये थे| वे रोजाना शाम होते ही एक छोटा-सा बर्तन लेकर किसी भी तेल बेचने ...
एक बार एक तहसीलदार साईं बाबा के दर्शन करने के लिए शिरडी आये थे| उनके साथ एक डॉक्टर जो उनके मित्र ...
|| चौपाई ||पहले साई के चरणों में, अपना शीश नमाऊं मैं।कैसे शिरडी साई आए, सारा हाल सुनाऊं मैं॥
साईं बाबा रहते तो शिरडी में ही थे, पर उनकी नजरें सदैव अपने भक्तों पर लगी रहती थीं| बाबा अपने भक्तों ...
पंडितजी चुपचाप बैठे अपने भविष्य के विषय में चिंतन कर रहे थे| उन्हें पता ही नहीं चला कि कब एक आदमी ...
श्री साईं बाबा के नाम से कोई विरला व्यक्ति ही होगा जो उनसे परिचित न हो| वे कलयुग के महान अवतार थे| ...
जिस समय साईं बाबा काका साहब को साठे के बारे में 'गुरुचरित्र' का पारायण करने के बारे में बता रहे थे| ...
यह सौंप दिया सारा जीवन, साईंनाथ तुम्हारे चरणों में|अब जीत तुम्हारे चरणों में, अब हार तुम्हारे चरणों ...
नासिक निवासी भाऊ साहब धुमाल पेशे से एक जाने-माने वकील थे| एक कानूनी मुकदमे के सिलसिले में उन्हें ...
आलंदी गांव (पूजा) के रहनेवाले एक स्वामी जी कर्णपीड़ा से बहुत दु:खी थे| उनके कान में इतना दर्द होता ...
अब तक साईं बाबा का प्रसिद्धि पूना और अहमदनगर तक फैल चुकी थी| दासगणु के मधुर कीर्तन के कारण बाबा का ...
यह घटना दिसम्बर, 1915 की है| गोविन्द बालाराम मानकर जो बांद्रा में रहते थे| साईं बाबा की भक्ति के ...
कोपीनेश्वर महादेव के नाम से बम्बई (मुम्बई) के नजदीक थाणे के पास ही भगवन् शिव का एक प्राचीन मंदिर है|

साखियाँ

Galleries

  • व्रत, विधि व कथा
  • आरती संग्रह
  • मंत्र संग्रह
  • चालीसा संग्रह
ग्रह शांति तथा सर्व-सुखो की इच्छा रखने वालो को बुधवार का व्रत करना चाहिए|
श्रावण मास के समस्त सोमवारों को यह व्रत रखा जाता है| इस व्रत में शिव जी, पार्वती जी, गणेश जी तथा ...
यह व्रत आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी से प्रारम्भ होकर आठ दिन तक चलता है|
इस दिन ब्रह्स्पतेश्वर महादेव जी की पूजा होती है|
यह व्रत आश्विन मास के शुक्ल प्रतिपदा को किया जाता है| इस व्रत में अशोक वृक्ष की पूजा की जाती है| 
यह व्रत प्रायः कार्तिक बदी अष्टमी को उसी वार को किया जाता है| जिस वार की दीपावली होती है| इस दिन ...
cache/resized/feffc05b419fab7c1307752c20eeb4ca.jpg
cache/resized/cfb8608a1e6665ca4182319b181d753a.jpg
cache/resized/0e2fe1e9c6e07dfe586601ff6ed853b6.jpg
cache/resized/fa4507d3733380678db0b1a4325d0ff4.jpg
cache/resized/8679d4053caba4c22f8c8721de93bc32.jpg
cache/resized/80b1caa01b846df86715b9178bcd33fb.jpg
बारम्बार प्रणाम मैया बारम्बार प्रणामजो नहीं ध्यावे तुम्हें अमिबके,कहां उसे विश्राम |
पूजा के अन्त में आरती की जाती है| पूजन में जो त्रुटि रह जाती है, आरती से उसकी पूर्ति होती है| पूजन ...
ज्ञान दीप और श्रद्धा की बाती,सो भक्ति ही पूर्ती करै जहं घी की |आरती श्री गायत्री जी की |
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं |नव कंजलोचन, कंज - मुख, कर - कंज, पद कंजारुणं ||
सुन संधिया तेरी देव देवाकर,अधिपति अनादि समाई |
नामु तेरो आरती भजनु मुरारे |हरि के नाम बिनु झूठे सगल पसारे || रहउ०
cache/resized/74904107e63f800a8e32d072b4c2c8a8.jpg
cache/resized/d1e9d48a94e1a8f42259619c59b6ef6e.jpg
cache/resized/baf7e2939108c9697d0df6932f4171e4.jpg
cache/resized/a167c56e61112353e85379ee84a5f157.jpg
cache/resized/b1b8d341ba94ce8c615e2580c17a82aa.jpg
cache/resized/5151641f5679a5d44796b99db8d20a5e.jpg
सायं ज्योतिः परं ब्रह्म दीपो ज्योतिर्जनार्दनः । दीपो हरतु मे पापं सन्ध्यादीप नमोऽस्तु ते ।। 
ॐ भूपतये स्वाहा, ॐ भुवनप, ॐ भुवनपतये स्वाहा । ॐ भूतानां पतये स्वाहा ।। 
ॐ ऐं ह्नीं राहवे नमः ||
ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः |
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ।।
ॐ हुं श्रीं मंगलाय नमः ||
cache/resized/74a1f5cc517ebe818b3d43daf39b0aeb.jpg
cache/resized/4f3d1b918c49d184e02ae81c2b4a76d6.jpg
cache/resized/354d547e7df4f6eb8003be88e35a8d24.jpg
cache/resized/95ac34638b23d3933d608d3159ac6377.jpg
cache/resized/299b8319514254a86a0158e8a5eab5ad.jpg
cache/resized/7d25297a3b0547ab766c48636aeaf7c8.jpg
|| दोहा || नमो नमो विन्ध्येश्वरी, नमो नमो जगदंब। संत जनों के काज में, करती नहीं बिलंब॥
|| दोहा || जय जय माता शीतला तुमही धरे जो ध्यान। होय बिमल शीतल हृदय विकसे बुद्धी बल ज्ञान ॥
|| चौपाई || श्री रघुवीर भक्त हितकारी । सुन लीजै प्रभु अरज हमारी ॥
|| दोहा ||   सुमिर चित्रगुप्त ईश को, सतत नवाऊ शीश।ब्रह्मा विष्णु महेश सह, रिनिहा भए जगदीश ।। ...
|| दोहा || जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥
|| दोहा || ह्रीं श्रीं क्लीं मेधा प्रभा जीवन ज्योति प्रचण्ड॥शान्ति कान्ति जागृत प्रगति रचना ...
cache/resized/1a2021cca3b70070dd0857f87c493ba1.jpg
cache/resized/b00aad291d8c629edcfce2d423a8b4d7.jpg
cache/resized/f16dfdb09fa0268eabc7b3e9fab51aef.jpg
cache/resized/d10351e968f3eb828c8e95caedda2529.jpg
cache/resized/0217e19a92f018b54338fa3ce43074a6.jpg
cache/resized/4256ac9841cb35e903620c0af529cbc1.jpg
 
Videos

नम्रता का पाठ

एक बार अमेरिका के राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन नगर की स्थिति का जायजा लेने के लिए निकले। रास्ते में एक जगह भवन का निर्माण कार्य चल रहा था। वह कुछ देर के लिए वहीं रुक गए और वहां चल रहे कार्य को गौर से देखने लगे। कुछ देर में उन्होंने देखा कि कई मजदूर एक बड़ा-सा पत्थर उठा कर इमारत पर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं। किंतु पत्थर बहुत ही भारी था, इसलिए वह more...
 
Gallery

व्यर्थ की लड़ाई

एक आदमी के पास बहुत जायदाद थी| उसके कारण रोज कोई-न-कोई झगड़ा होता रहता था| बेचारा वकीलों और अदालत के चक्कर के मारे परेशान था| उसकी स्त्री अक्सर बीमार रहती थी| वह दवाइयां खा-खाकर जीती थी और डॉक्टरों के मारे उसकी नाक में दम था| एक दिन पति-पत्नी में झगड़ा हो गया| पति ने कहा - "मैं लड़के को वकील बनाऊंगा, जिससे वह मुझे सहारा दे सके|" more...
 
Sitemap

धर्म और दुकानदारी

एक दिन एक पण्डितजी कथा सुना रहे थे| बड़ी भीड़ इकट्ठी थी| मर्द, औरतें, बच्चे सब ध्यान से पण्डितजी की बातें सुन रहे थे| पण्डितजी ने कहा - "इस दुनिया में जितने प्राणी हैं, सबमें आत्मा है, सारे जीव एक-समान हैं| भीड़ में एक लड़का और उसका बाप बैठा था| पण्डितजी की बात लड़के को बहुत पसंद आई और उसने उसे गांठ बांध ली| अगले दिन लड़का दुकान पर गया| थोड़ी देर में एक more...
 
E-Mail

समझदारी की बात

एक सेठ था| उसने एक नौकर रखा| रख तो लिया, पर उसे उसकी ईमानदारी पर विश्वास नहीं हुआ| उसने उसकी परीक्षा लेनी चाही| अगले दिन सेठ ने कमरे के फर्श पर एक रुपया डाल दिया| सफाई करते समय नौकर ने देखा| उसने रुपया उठाया और उसी समय सेठ के हवाले कर दिया| दूसरे दिन वह देखता है कि फर्श पर पांच रुपए का नोट पड़ा है| उसके मन में थोड़ा शक पैदा हुआ| more...

आध्यात्मिक जगत - The school of spirituality (आध्यात्मिकता की पाठशाला)

नोट: इस वेबसाइट का उद्देश्य जन साधारण तक अपना संदेश पहुँचाना है| ताकि एक धर्म का व्यक्ति दूसरे धर्म के बारे में जानकारी ले सके| इस वेबसाइट को बनाने के लिए विभिन्न पत्रिकाओं, पुस्तकों व अखबारों से सामग्री एकत्रित की गई है| इसमें किसी भी प्रकार की आलोचना व कटु शब्दों का प्रयोग नहीं किया गया|
Special Thanks to Dr. Rajni Hans, Ms. Karuna Miglani, Ms. Anisha Arora, Mr. Ashish Hans, Ms. Mini Chhabra & Ms. Ginny Chhabra for their contribution in development of this spiritual website. Privacy Policy